अनोखा रिश्ता... अनोखी चाहत...
लेखक:
पिंकबेबी (Pinkbaby)


जमाल खान एक बहोत बड़ा और कामयाब बिज़नेस मैन था। उसकी उम्र चालीस साल थी। उसकी बीवी समीना उससे करीब बारह साल छोटी थी। अठाइस साल की समीना बेहद जवान और खूबसूरत थी। मक्खन की तरह नरम, दूध की तरह सफ़ेद गोरी चिट्टी और गुलबदन और नाज़नीन हुस्न की मालिक थी। वो अपनी जवानी और हुस्न का खूब खयाल रखती थी। अपने जिस्म पर एक भी ग़ैर ज़रूरी बाल नही रहने देती। रोज़ाना इंपोर्टेड बेबी लोशन के साथ अपने जिस्म का मसाज करती। बक़ायदगी के साथ ब्यूटी पर्लर जाती और अपने हुस्न को चार चाँद लगवाती। हर वक्त अच्छे मॉडर्न कपड़े और काफी ऊँची-ऊँची ऐड़ी वाले सैंडल पहने रहती थी। उसका कद पाँच फुट तीन इंच था... समीना को इस बात का काम्प्लेक्स था और इसी वजह से वो हर वक़्त हाई हील के सैंडल पहनना पसंद करती थी। वो जानती थी कि अगर वो अपनी जवानी और खूबसूरती का खयाल नहीं रखेगी तो जमाल खान जैसा मालदार आदमी उसे छोड़ कर किसी और के पास भी जा सकता है। अपनी अदाओं के जलवे जमाल खान को दिखाती रहती और वो भी एक भरपूर और वाजीह मर्द था और हर तरह से समीना का खयाल रखता और उसकी माली और जिस्मानी ज़रूरतों को निहायत ही अच्छे अंदाज़ में पूरा करता... समीना की मुकम्मल तसल्ली तक। पार्टियों में हमेशा ही उनकी जोड़ी की तारीफ़ होती थी। दोनों ही एक दूसरे का बहोत खयाल रखते थे और एक दूसरे से बहोत मोहब्बत करते थे।

जमाल खान अपने बिज़नेस में काफी मसरूफ रहता था और समीना ज्यादातर घर पे ही रहती थी। घर.... घर क्या था एक बहोत बड़ा बंगला था। नौकर चाकर, कारें, ड्राइवर, सब कुछ था। घर पे काम काज कोई करने को था नहीं। नौकर ही सारा काम करते थे। खाना पकाने के लिये भी खानसामा था जो खाना बनाने के बाद अपने क्वार्टर में चला जाता था जहाँ वो अपनी बीवी के साथ रहता था। इस तरह वो घर के अंदर ज्यादातर अकेली ही होती थी। समीना का जहाँ दिल करता वो ड्राइवर के साथ जा सकती थी और जाती भी थी। खूब शॉपिंग वगैरह करती थी... रुपये- पैसों की तो कोई कमी थी नहीं। समीना जमाल खान के साथ बाहर के मुल्कों के बिज़नेस टूर पे भी जाती और तमाम किस्म की बिज़नेस और सोशल पार्टियों में भी शामिल रहती और शराब वगैरह भी पीती थी। हमारे मुल्क में शराबनोशी पर पाबंदी जरूर है लेकिन अमीर - गरीब हर तबके के लोग खुल्लेआम शराब पीते हैं। फर्क सिर्फ़ इतना है कि गरीब लोग देसी शराब से काम चलाते हैं जबकि अमीरों को हर किस्म की कीमती शराब मुयस्सर होती है। आजकल तो मॉडर्न लड़कियाँ और औरतें भी सर-ए-आम शराब नोशी का मज़ा लेती हैं और समीना भी लिहाज़ा इसी तरह की खातूनों में शामिल थी और पार्टियों और घर पे भी बाक़ायदा शराब पीने की शौकीन थी।

एक बार जब जमाल खान और समीना अमेरिका के टूर पर गये तो वहाँ इनका मेज़बान रेहान शरीफ़ था। उसने उनको होटल में ठहराने की बजाय अपने घर में ठहराया। रेहान शरीफ़ और उसकी खूबसूरत बीवी ज़हरा बहोत ही अच्छे और मिलनसार लोग थे। उन्होंने उनकी खूब खातिरदारी की। उनके घर में दो कुत्ते भी थे जोकि उनके घर में ही पल के जवान हुए थे। सफ़ेद रंग के जिस्म पर काले रंग के बहोत खूबसूरत धब्बे-धब्बे बने हुए थे। करीब चार फुट लंबा और ढाई फुट ऊँचा कद था। भारी मगर बहोत मज़बूत और बेहद चुस्त और फुर्तीला जिस्म था इनका। दिलचस्प बात ये थी कि दोनों कुत्ते बिल्कुल एक जैसे थे। यानी वो दो जुड़वाँ कुत्ते थे - जिम्मी और टॉमी। समीना को भी वो कुत्ते बहोत अच्छे लगे थे। दोनों ही बहोत अच्छे सधे हुए थे। अपने मालिकों से बहोत प्यार करते थे। समीना ने देखा कि दोनों कुत्ते रेहान और ज़हरा के आगे पीछे फिरते रहते अपनी दुम्म हिलाते हुए उनके हुक्म का इंतज़ार करते हुए। दोनों कुत्ते घर के अंदर फिरते थे मगर समीना को कहीं भी कोई उनकी फैलायी हुई गंदगी नज़र नहीं आयी। रेहान शरीफ़ ने जब अपने मेहमानों की पसंदीदगी और दिलचस्पी अपने कुत्तों में देखी तो उसे और भी अच्छा लगा और उसने उनको अपना एक कुत्ता तोहफ़े में देने की ऑफर कर दी। जमाल खान और समीना इस ऑफर पे बहोत हैरान और खुश हुए और समीना ने जमाल खान से वो कुत्ता अपने साथ ले जाने की फ़रमाइश की। कुत्ता तो जमाल को भी पसंद आया था इसलिये उन्होंने रेहान शरीफ़ की ऑफर को शुक्रिया के साथ कबूल कर लिया। समीना को खुश होते हुए देख कर रेहान शरीफ़ ने माइनी खेज़ नज़रों से अपनी बीवी ज़हरा की तरफ़ देखा और दोनों मुस्कुरा दिये।

समीना बोली, ज़हरा... आप लोगों का बहोत-बहोत शुक्रिया! ये तो सारा-सारा दिन घर से बाहर रहते हैं और मैं घर में बोर होती रहती हूँ... अब आपने एक डॉगी हमें दिया है तो चलो उसके साथ मेरी कुछ मसरुफ़ियत बनी रहेगी और वक़्त भी पास हो जायेगा!

ज़हरा मुस्कुरा के बोली, येस... टॉमी के साथ आप का वक़्त सच में बहोत अच्छा गुज़रेगा और आप हमेशा हमें याद करोगी। टॉमी मेरा पसंदीदा कुत्ता है। उसकी बहोत अच्छी तरबियत की हुई है हमने। आप लोगों को कभी भी इससे किसी किस्म की कोई शिकायत नहीं होगी!

समीना खुश और पुरजोश होती हुई बोली, मुझे बहोत अच्छा लगेगा जब ये मेरे इशारों पे चलेगा।

रेहान शरीफ़ हंसते हुए बोला, ये इशारों पे चलता भी है और अपने इशारों पे चलाता भी है!

उसकी बात पे ज़हरा हंसने लगी और समीना भी बिना कुछ समझे उनके साथ हंसने लगी। जब अमेरिका से दोनों वापस आये तो टॉमी भी उनके साथ था और दोनों बहोत खुश थे।

टॉमी ने जमाल खान के घर में रहना शुरू कर दिया। वो सच में ही बहोत शानदार जानवर था... बहोत ही मोहज़्ज़ब और तरबियत-याफ़्ता... बिल्कुल अमेरिकी आवाम की तरह। शुरू- शुरू में वो नये माहौल में आके घबराया हुआ था। थोड़ा तंग किया। वो भी डरा हुआ था और जमाल खान और समीना भी उससे थोड़ा दूर-दूर रहते। मगर आहिस्ता-आहिस्ता उनका खौफ़ जाता रहा और वो उसके करीब आने लगे और वो भी बहोत जल्द जमाल खान और समीना के साथ मानूस हो गया। घर के अंदर ही रहता और समीना के आगे-पीछे फिरता रहता। समीना खुद उसे अपने हाथों से खिलाती... उसे सैर करवाती। शुरू में तो उसके गले में पट्टा डाला गया था मगर आहिस्ता-आहिस्ता वो समीना ने उतार फेंका और अब टॉमी घर के अंदर बिना रोकटोक और बिना किसी रुकावट के फिरता था। उसकी देख भाल के लिये एक खास नौकर रखा था मगर टॉमी तो ज्यादा वक़्त समीना के साथ ही गुज़ारता और समीना के साथ ही खुश रहता। समीना को भी अपना फ़ारिग़ वक़्त गुज़ारने का एक शुगल मिल गया था। टॉमी समीना के साथ खेलता... उसके सैंडलों और पैरों को चाटता... अपना मुँह और सिर उसके सैंडलों और पैरों से रगड़ता और समीना भी उसके सिर पे और जिस्म पे हाथ फ़ेर के उसके जिस्म को सहलाती और उसकी मोहब्बत का जवाब मोहब्बत से देती।

शुरू में जब टॉमी ने समीना के पैरों को चाटने के लिये अपना मुँह उसके पैरों पर रखना चाहा तो वो डर के मारे उछल ही पड़ी थी और उसके करीब बैठा हुआ जमाल खान भी हंसने लगा था। मगर धीरे-धीरे वो उसकी आदि हो गयी थी और अब उसे अच्छा लगता था जब टॉमी की ज़ुबान उसके सैंडलों को चाटते हुए सैंडल की बारीक पट्टियों के बीच में सरकते हुए उसके पैरों को चाटती थी। अब तो उसका अपना भी दिल चाहता था कि वो उसके सैंडलों को चाटते हुए उसके पैरों पे अपनी ज़ुबान फेरते रहे। शाम में टॉमी समीना के साथ लॉन में खेलता। समीना गेंद फेंकती और वो उस गेंद के पीछे-पीछे भाग कर उसे पकड़ने की कोशिश करता। कभी-कभी समीना नीचे घास पर बैठ जाती तो वो उस पर चढ़ जाता और उसे नीचे गिराने की कोशिश करता और समीना भी हंसती हुई नीचे उसके सामने लेट जाती। टॉनी फ़िर उसके सैंडल और पैरों को चाटने लगता और कभी अपना सिर उसके मुँह के साथ रगड़ने लगता। ये सब समीना खूब इंजॉय करती। लेखक: पिंकबेबी

समीना मॉडर्न और आज़ाद खयाल औरत थी। वो हर तरह के मॉडर्न लिबास पहनना पसंद करती थी। मगर घर के अंदर वो और भी आज़ादी के साथ रहती थी। अक्सर घर के अंदर उसका लिबास बहोत बोल्ड होता था... घुटनों से ऊपर छोटी स्कर्ट और स्लीवलेस टॉप पहनना तो उसका मामूल था। ऐसे ही एक रोज़ वो टीवी लाऊँज में सोफ़े पे आधी लेटी हुई फ्रेंच वाईन पीती हुई एक इंडियन मूवी देख रही थी और टॉमी भी वहीं बैठा हुआ था। समीना ने छोटी सी स्कर्ट और बिना बाजू वाली टॉप पहनी हुई थी और पैरों में हमेशा की तरह ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल पहने हुए थे। स्कर्ट उसके घुटनों से ऊपर तक थी और उसकी गोरी-गोरी और चिकनी टाँगें नंगी हो रही थीं। टॉप भी उसके जिस्म के साथ चिपकी हुई थी जिस में उसके सीने के उभा क़यामत लग रहे थे। टॉमी ने समीना के क़रीब आकर उसके सैंडल पहने हुए पैरों में अपना सिर रगड़ना शुरू कर दिया। अपने सिर के साथ वो समीना के पैर को सहलाने लगा। समीना ने भी अपने दूसरे पैर के साथ कुत्ते के सिर को सहलाना शुरू कर दिया। बड़े ही प्यार से उसके सिर पे अपने सैंडल का तलवा फिराने लगी। टॉमी ने उसके प्यार भरे अंदाज़ को देखा तो खुश हो कर वो समीना के पैर को अपनी लंबी गुलाबी ज़ुबान निकाल कर चाटने लगा। टॉमी ने पहले समीना के सैंडल के तलवे को अपनी ज़ुबान से चाटना शुरू किया और फिर जब वो समीना के पैर के तलवे और सैंडल के बीच के गैप में अपनी ज़ुबान घुसा कर चाटने लगा तो समीना को हल्की-हल्की गुदगुदी होने लगी और उसके साथ ही मज़ा भी आने लगा। टॉमी की नरम-नरम ज़ुबान कभी समीना के सैंडल के तलवे को चाटती तो कभी पैर के तलवे और सैंडल के दर्मियान घुस कर चाटती और कभी पैर के ऊपर के हिस्से को सैंडल की पट्टियों के बीच में से चाटने लगती। बड़े ही प्यार और जोश के साथ टॉमी समीना के सैंडल और पैरों को चाट रहा था जैसे के उसके सैंडल और पैरों पे कोई शहद लगा हो जिसे चाटने में उसे मज़ा आ रहा हो। लज़्ज़त के मारे समीना की तवज्जो भी अब टीवी पर से हट चुकी थी और वो भी अपनी वाइन पीती हुई टॉमी को ही देख रही थी और उसके सिर के सहला रही थी अपने दूसरे पैर के सैंडल के तलवे के साथ। टॉमी भी कभी समीना के एक पैर को चाटता और कभी दूसरे पैर के चाटने लगता। धीरे-धीरे उसकी ज़ुबान समीना के पैर से ऊपर को जाती हुई उसकी गोरी-गोरी टाँग के निचले हिस्से को चाटने लगी और वहाँ उसने अपनी ज़ुबान फेरनी शुरू कर दी ।

टॉमी की लंबी खुरदरी गुलाबी ज़ुबान जैसे-जैसे समीना के पैरों और टाँग के निचले हिस्से को चाटती जाती तो वैसे-वैसे ही उसे मज़ा आने लगा। पहले पहल तो वो उसे टॉमी का रोज़ का काम ही समझ रही थी और उसकी तरफ़ कोई तवज्जो नहीं दे रही थी मगर धीरे-धीरे समीना को भी मज़ा आने लगा..... अच्छा लगने लगा.... उसकी तवज्जो टीवी की तरफ़ से हट के अब सिर्फ़ अपने कुत्ते की ज़ुबान से मिलने वाली लज़्ज़त की तरफ़ ही थी। उसका दिल चाह रहा था कि टॉमी की ज़ुबान और ऊपर को आती जाये उसके जिस्म को चाटती हुई। टॉमी भी आहिस्ता-आहिस्ता समीना के जिस्म के नंगे हिस्सों को चाटते हुए आगे बढ़ रहा था। उसकी लंबी गीली ज़ुबान अपने थूक के साथ समीना की टाँगों को गीला कर रही थी। जहाँ-जहाँ से वो चाटता जाता था वहाँ वो उसके जिस्म को गीला करता जा रहा था। समीना को भी बुरा नहीं लग रहा था। बल्कि इस तरफ़ तो उसका ध्यान ही नहीं था कि कुत्ते के मुँह का थूक उसके जिस्म को गीला या गंदा कर रहा है। उसे तो बस अपने मज़े का ही एहसास था बस ... जो इस कुत्ते की ज़ुबान से मिल रहा था। उसने वाइन के बड़े-बड़े घूँट पीते हुए गिलास खाली करके नीचे कार्पेट पे ही रख दिया था।

टॉमी का मुँह अब समीना की नंगी रानों तक पहुँच रहा था। उसने अपनी लंबी ज़ुबान के साथ समीना की गोरी-गोरी चिकनी नंगी रान को चाटना शुरू कर दिया। समीना ने खुद ही अपनी स्कर्ट को अपनी रान पे थोड़ा ऊपर को सरका लिया... अपनी गोरी-गोरी रानों को और भी नंगा करते हुए... अपने इस कुत्ते के लिये। जैसे-जैसे टॉमी ने समीना की नंगी रानों को चाटना शुरू क्या वैसे-वैसे समीना लज़्ज़त के मारे तड़पने लगी। वाइन की हल्की सी खुमारी समीना की लज़्ज़त और ज्यादा बढ़ा रही थी। लज़्ज़त के मारे उसकी आँखें बंद होने लगीं। कुत्ते का जिस्म अब समीना के करीब था... उसके हाथ के करीब। समीना ने अपना हाथ बढ़ाया और उसके जिस्म पे रखा और उसके जिस्म को सहलाने लगी। उसका हाथ तेज़ी के साथ टॉमी के जिस्म पे हरकत कर रहा था और वो उसे सहलाती हुई अपनी तरफ़ खींच रही थी। जमाल खान ने भी कईं बार उसके जिस्म को चूमा और अपनी ज़ुबान से चाटा था मगर जो मज़ा समीना को टॉमी की ज़ुबान से मिल रहा था वो लज़्ज़त उसे आज पहली बार मिल रही थी। समीना का एक हाथ अब टॉमी के सिर को सहला रहा था और दूसरा हाथ अपनी रान पे था। टॉमी की ज़ुबान समीना की रानों को चाटती हुई कभी उसके हाथ को भी चाटने लगती। समीना को अजीब सा एहसास हो रहा था... उसे अपनी चूत के अंदर सरसराहट सी महसूस होने लगी थी... हल्का-हल्का गीलापन अपनी चूत के अंदर भी महसूस कर रही थी वो। उसे यक़ीन नहीं हो रहा था कि एक कुत्ते की ज़ुबान इस क़दर लज़्ज़त दे सकती है। उसे थोड़ा खौफ़ और डर भी लग रहा था इस कुत्ते से कि कहीं वो उसे काट ना ले मगर उसके साथ-साथ... उसकी ज़ुबान से मिलने वाली लज़्ज़त उसे सब कुछ भूल भाल कर इसी मज़े में खो जाने को कह रही थी। आज से पहले भी टॉमी ने कईं बार समीना के सैंडलों और पैरों को चाटा था मगर वो कभी भी उसके पैरों से आगे नहीं बढ़ा था पर आज उसकी ज़ुबान उसके पैरों से आगे उसकी नंगी टाँगों से होती हुई उसकी नंगी गोरी चिकनी रानों तक पहुँच चुकी थी... और उसके साथ ही समीना लज़्ज़त की बुलंदियों की तरफ़ जा रही थी। समिना!

कुत्ते की ज़ुबान समीना की रानों के ऊपरी हिस्से को चाट रही थी... उसकी चूत के इर्द-गिर्द... जैसे अभी के अभी उसकी स्कर्ट के अंदर चूत तक पहुँच जायेगी जिसे उसकी पैंटी ने ढक रखा था। समीना की आँखें बंद थीं... टाँगें पूरी खुली हुई थीं... मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं... पूरे का पूरा जिस्म झटके खा रहा था। कुत्ते टॉमी की ज़ुबान उसके पूरे जिस्म में आग लगा रही थी। उसका दिल चाह रहा था कि वो अपने जिस्म पर मौजूद सारे के सारे कपड़े उतार फ़ेंके... और टॉमी की ज़ुबान के लम्स को अपने पूरे जिस्म पर महसूस करे.. पूरे जिस्म पर उसकी ज़ुबान को फिरवा कर मज़े ले। अभी वो अपने दिमाग में पैदा होने वाली इस ख्वाहिश को पूरा करने या लंट्रोल करने के बारे में फ़ैसला नहीं कर पा रही थी कि घर के अंदर के दरवाज़े की बेल बज उठी। समीना जैसे होश में आ गयी... अपनी आँखें खोलीं... टॉमी को अपने जिस्म पर से पीछे हटाया। वो भी बेल की आवाज़ से चौंक कर चौकन्ना हो चुका हुआ था। समीना ने शर्मिंदा नज़रों से टॉमी की तरफ़ देखा और फ़िर सोफ़े पर से उठ कर अपनी पेंसिल हील की सैंडल खटखटाती हुई दरवाज़ा खोलने के लिये बढ़ गयी। उसका जिस्म हौले-हौले काँप रहा था और चेहरा सुर्ख हो रहा था... मुँह खुश्क हो रहा था। दरवाज़ा खोला तो सामने खानसामा था जोकि खाना पकाने के लिये आया था। समीना ने टीवी लाऊँज में वापस आते हुए उसे ठंडा पानी ला के पिलाने को कहा और वापस जा कर सोफ़े पर बैठ गयी और अपने से कुछ दूर बैठे हुए टॉमी को देखने लगी। खानसामा पानी दे गया तो पानी पीने के बाद उसने फिर कालीन पर पड़े पहले वाले वाइन-गिलास में वाइन भरी और आहिस्ता-आहिस्ता वाइन पीती हुई टॉमी के बारे में ही सोचती रही कि किस क़दर अजीब बात है... किस क़दर अजीब लज़्ज़त और मज़ा था उसकी ज़ुबान में। वो सोच रही थी कि अगर... अगर... अगर टॉमी की ज़ुबान उसकी नंगी चूत को चाटती तो उसे कितना मज़ा आता। ये बात ज़हन में आते ही उसके पूरे जिस्म में एक झुरझुरी सी फैल गयी और चेहरा एक हल्की सी मुस्कुराहट के साथ सुर्ख हो गया। टॉमी भी अपनी जगह पे नीचे क़लीन पर बैठा अपनी बड़ी-बड़ी आँखों के साथ अपनी मालकिन को देख रहा था... जैसे अपने काम की तारीफ़ चाहता हो... जैसे कुछ इनाम चाहता हो। अपने सामने बैठे हुए कुत्ते और अपने बारे में ऐसा सोचते हुए समीना को थोड़ी शरम सी आ रही थी मगर कोई गलती होने की शर्मिंदगी नहीं थी। वाइन की हल्का सा नशा उसे बहोत अच्छा लग रहा था। वो मुस्कुरायी और वाइन खतम करके टॉमी की तरफ़ देखती हुई अपने बेडरूम की तरफ़ बढ़ गयी। ।

जैसे ही टॉमी ने अपनी खूबसूरत मालकिन को उठ कर अपने बेडरूम की तरफ़ जाते हुए देखा तो वो भी फ़ौरन अपनी जगह से उठा और उसके पीछे-पीछे चल पड़ा। समीना ने जैसे ही अपने पीछे मुड़ कर दरवाज़ा बंद करने का इरादा किया तो टॉमी दरवाज़े के बिल्कुल सामने खड़ा था और बड़ी ही अजीब नज़रों से वो समीना को देख रहा था। उसकी लंबी गुलाबी ज़ुबान बाहर लटक रही थी और बड़ी-बड़ी आँखें समीना की खूबसूरत आँखों से मिली हुई थीं। टॉमी समीना की तरफ़ ऐसे देख रहा था जैसे कि वो अपनी मालकिन से उसके कमरे के अंदर आने की इजाज़त तलब कर रहा हो। आज तक समीना ने या जमाल खान ने टॉमी को अपने बेडरूम में आने से मना नहीं किया था... वो जैसे चाहता था अंदर आ जाता था मगर आज समीना उसे अंदर आने देने के लिये सोच रही थी कि आने दे या नहीं। मगर फ़िर जैसे उसे इस बे-ज़ुबान पर तरस आ गया हो... वो उसे रास्ता देती हुई बोली, ठीक है आ जाओ अंदर... लेकिन याद रखना कोई शरारत नहीं चलेगी... समझे! टॉमी ये सुन कर जल्दी से अंदर को बढ़ा जैसे उसे अपनी मालकिन की शर्त मंज़ूर हो।

कमरे के अंदर आकर अब समीना सोचने लगी कि वो जिस काम के लिये अपने कमरे में आयी है वो अब टॉमी के सामने करे या नहीं करे... यानी अब वो टॉमी के सामने ही अपने कपड़े उतार कर अपनी चूत में वॉयब्रेटर से खुद-लज़्ज़ती हासिल करे या फ़िर बाथरूम में जा कर ये काम करे। समीना ने कुत्ते की तरफ़ देखा जोकि एक तरफ़ नीचे कालीन पे बैठा हुआ था बड़े ही आराम से और अपनी बड़ी-बड़ी आँखों के साथ अपनी मालकिन समीना की तरफ़ ही देख रहा था। समीना ने बाथरूम के अंदर जा कर ही मुठ मारने का फ़ैसला किया और अपनी अलमारी की तरफ़ जा कर लंड की शक्ल का वॉयब्रेटर निकालने लगी जो वो जमाल खान के साथ फ्रांस के टूर के दौरान पेरिस से लायी थी। जब कभी उसकी चूत में मस्ती उबाल मारती थी तो अकेले में समीना इस वॉयब्रेटर की मदद से खुद-लज़्ज़ती हासिल कर लेती थी।

तभी समीना को खयाल आया... एक सोच उसके अंदर पैदा हुई कि वो आखिर टॉमी के साथ ऐसा क्यों कर रही है... क्या वो उससे डर रही है... टॉमी एक जानवर ही तो है... कोई इंसान तो नहीं है ना कि वो उसके सामने अपने कपड़े भी उतार नहीं सकती... उसके सामने नंगी नहीं हो सकती... अपनी चूत में डिल्डो डाल कर मुठ नहीं मार सकती। वो खुद को समझा रही थी कि इस बेचारे बेज़ुबान जानवर के सामने नंगी होकर मुठ मारने में कोई हर्ज़ तो नहीं है... क्योंकि वो उसे कोई नुकसान तो नहीं पहुँचा सकता... क्योंकि वो एक अच्छा तरबियत-याफ़्ता जानवर है... अपने मालिकों का बहोत ज्यादा खयाल रखने वाला... और उन से बहोत ज्यादा प्यार करने वाला... और अभी कुछ देर पहले ही तो टॉमी ने अपनी मोहब्बत और वफ़ादारी का सबूत दिया था... उसके पैरों और पैरों से ऊपर उसके नंगी टाँगों और रानों को चाट-चाट कर। समीना को याद आया कि जब टॉमी उसकी टाँगों और रानों को चाट रहा था तो उसे कितना मज़ा आ रहा था। कुछ देर पहले टॉमी के साथ गुज़रे हुए वक़्त को याद कर के समीना के जिस्म में एक बार फ़िर से सनसनी की लहर दौड़ गयी... एक लज़्ज़त-अमेज़ लहर... और होंठों पे हल्की सी मुस्कुराहट फैल गयी। समीना ने टॉमी के सामने ही नंगी होकर मुठ मारने का इरादा कर लिया।

समीना ने बेड के करीब खड़ी होते हुए एक नज़र दोबारा से टॉमी पे डाली... और फ़िर उसकी तरफ़ ही देखते हुए अपनी टॉप को नीचे से पकड़ कर ऊपर को उठाना शुरू कर दिया। दोनों की नज़रें एक दूसरे से मिली हुई थीं... और अगले ही लम्हे समीना की टॉप उसके जिस्म से उतर चुकी थी। अब समीना अपने कमरे में अपने पालतू कुत्ते के सामने सिर्फ़ एक काले रंग की ब्रा और छोटी सी स्कर्ट और काले रंग की ऊँची पेंसिल हील के सैंडल पहने खड़ी थी। टॉमी भी बजाय इधर-उधर देखने के बड़े ही शौक से अपनी मालकिन को देख रहा था। समीना ने जब कुत्ते को अपनी ही तरफ़ देखते हुए देखा तो मुस्कुरायी और अपने हाथ में पकड़ी हुई टॉप को गोलमोल करके ज़ोर से कुत्ते के मुँह पे फेंका और फ़िर खुद ही ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगी।

समीना की टॉप कुत्ते के मुँह पर टकरा कर उसके सामने गिर गयी। टॉमी ने फौरन उसे सूँघना शुरू कर दिया। समीना भी उसकी हरकतों को देख रही थी। टॉमी ने समीना की टॉप को अपने मुँह में उठाया और उठ कर चलता हुआ सोफ़े पर चढ़ कर बैठ गया। समीना के जिस्म से उतरी हुई टॉप अपने अगले पैरों के बीच में रखी और उसे सूँघते हुए समीना की तरफ़ देखने लगा। समीना भी उसकी हरकतों को बड़ी ही दिलचस्पी से देख रही थी और मुस्कुरा रही थी। फ़िर समीना ने अपनी नाज़ुक-नाज़ुक उंगलियाँ अपनी स्कर्ट के इलास्टिक में फंसायीं और अपनी नज़रें टॉमी की नज़रों से मिलाते हुए अपनी शॉर्ट-स्कर्ट भी उतारने लगी... और फ़िर उसे अपनी रानों से नीचे खिसकाते हुए अपने पैरों को बारी-बारी उठा कर अपने पैरों से निकाल दिया। मगर इस बार अपनी स्कर्ट को टॉमी की तरफ़ फ़ेंकने की बजाय उसे वहीं नीचे क़लीन पर पड़ा रहने दिया। अब समीना अपने बेडरूम में सिर्फ़ छोटी सी जी-स्ट्रिंग पैंटी और ब्रा और ऊँची पेंसिल हील के सैंडल में खड़ी थी। पता नहीं क्यों अब उसे खुद भी अपने जिस्म की अपने पालतू कुत्ते के सामने इस तरह नुमाइश करने में मज़ा आ रहा था... अजीब सा भी लग रहा था और अच्छा भी। सामने सोफ़े पर अपनी टाँगें फैलाये हुए टॉमी ऐसे बैठा हुआ समीना को देख रहा था कि जैसे उसके सामने कोई स्टेज डाँसर स्ट्रिप-टीज़ डाँस कर रही हो और वो उसके मज़े ले रहा हो। लेखक: पिंकबेबी

समीना को भी इस तरह की बेशर्मी करते हुए अच्छा लग रहा था। उसने थोड़ी देर के लिये टॉमी के सामने इसी हालत में रहने का सोचा। वो आगे बढ़ी और जा कर अपने बेडरूम का दरवाज़ा लॉक कर दिया और वापस आकर बेड की बैक से टेक लगा कर तिरछी लेट गयी। समीना सिर्फ़ ब्रा, पैंटी और उँची पेंसिल हील के सैंडल पहने बेड पे लेटी हुई थी। टॉमी की तरफ़ देखते हुए उसका अपना हाथ खुद-ब-खुद ही अपने गोरे-गोरे चिकने जिस्म को सहलाने लगा... अपने नंगे पेट पर फिसलने लगा। उसकी काले रंग की ब्रा में से उसके खूबसूरत और गोरे-गोरे मम्मे आधे बाहर को निकल रहे थे। पेट पर से उसका हाथ फिसलता हुआ आहिस्ता-आहिस्ता अपने मम्मों की तरफ़ बढ़ने लगा और पहले अपने मम्मों को अपनी ब्रा के ऊपर से सहलाने लगा और फ़िर उस पर से सरकता हुआ अपने मम्मों के नंगे हिस्सों को सहलाने लगा। समीना तकरीबन रोज़ाना अपने हाथ और वॉयब्रेटर से खुद-लज़्ज़ती हासिल करती थी मगर इस वक़्त पता नहीं क्यों अपने कुत्ते के सामने ये करते हुए उसे कुछ ज्यादा ही अच्छा लग रहा था। ऐसे अपने जिस्म को सहलाते हुए भी उसकी नज़रें टॉमी को ही देख रही थीं। दोनों की आँखें पता नहीं एक दूसरे को क्या-क्या पैगाम दे रही थीं लेकिन ये बात ज़रूर थी कि दोनों में से कोई भी दूसरे को नापसंद नहीं कर रहा था... बल्कि एक दूसरे की मौजूदगी को वो इंजॉय कर रहे थे। कुत्ते की समीना में दिलचस्पी और पसंदीदगी उसके मुँह से बाहर लटक रही गुलाबी ज़ुबान से हो रही थी जो समीना के जिस्म की हरकत के साथ-साथ हिल रही थी... जिसे वो थोड़ी-थोड़ी देर के बाद अपने मुँह के अंदर करता और उस पर बह निकलने वाले थूक को अपने मुँह के अंदर कर लेता।

दूसरी तरफ़ समीना को अपनी कैफ़ियत का अंदाज़ा अपने जिस्म के हौले-हौले गरम होने और उसकी चूत के अंदर पैदा होने वाले गीलेपन से हो रहा था। उसे इस तरह नंगी हालत में अपने किसी दूसरे के सामने अपने खूबसूरत जिस्म की नुमाइश करना अच्छा लग रहा था। उसे इस बात से भी कोई फ़र्क़ महसूस नहीं हो रहा था कि उसके इस खूबसूरत जिस्म का नज़ारा करने वाला कोई इंसान नहीं बल्कि एक जानवर... एक कुत्ता था। उसे तो बस यही पता था कि उसे ये सब कुछ अच्छा लग रहा था... और उसका जिस्म एक बार फ़िर से टॉमी की ज़ुबान को महसूस करना चाहता था... फ़िर से उसकी ज़ुबान से मिलने वाले मज़े को हासिल करना चाहता था... मगर कैसे... कैसे वो टॉमी के दोबारा बुलाये... उसकी इस में हिम्मत नहीं पैदा हो रही थी।

लेकिन समीना को ज्यादा देर इंतज़ार और फिक्र नहीं करनी पड़ी क्योंकि बे-ज़ुबान मगर समझदार टॉमी शायद अपनी मालकिन की ख्वाहिश और झिझक को समझ गया था। इसी लिये वो अपनी जगह पे उठ के खड़ा हुआ... सोफ़े पर ही... अपने जिस्म को खींचते हुए एक अंगड़ायी ली और फ़िर सोफ़े से नीचे उतर आया और अपनी चारों टाँगों पर आहिस्ता-आहिस्ता बेड की तरफ़ चलने लगा। ये देख कर समीना का दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़कने लगा। उसे थोड़ी घबड़ाहट सी होने लगी मगर फ़िर भी वो बिना कोई हरकत किये बेड पर अपनी जगह लेटी रही... टॉमी की तरफ़ उसकी आँखों में देखती हुई।

समीना सारा दिन घर पर रहते हुए अपना इंटरनेट भी इस्तेमाल करती रहती थी और अपने वक़्त गुज़ारी के लिये इंटरनेट पर नंगी फ़िल्में भी देखती थी और कईं बार तो जमाल भी उसके साथ ये सब कुछ देखता था। इसलिये ऐसी बात भी नहीं थी कि समीना को इंसानों के जानवरों के साथ चुदाई करने का इल्म नहीं था बल्कि वो इंटरनेट पर कईं बार खूबसूरत लड़कियों को कुत्तों, घोड़ों, गधों, बकरों और दूसरे जानवरों से चुदते हुए और उनके लौड़े चूसते हुए देख चुकी थी। लेकिन उसे यक़ीन था कि ये कुत्ता उसके साथ वैसा कुछ नहीं करेगा और ना ही उसने खुद ऐसा कुछ करने का सोचा था कि वो कुत्ते के साथ इस हद तक जायेगी। वो तो बस अपने जिस्म पर टॉमी की लंबी और खुरदरी ज़ुबान की रगड़ का मज़ा लेना चाहती थी... और इससे आगे कुछ नहीं।

समीना की नज़रें टॉमी की नज़रों से मिली हुई थीं और वो उसे अपनी तरफ़ आता हुआ देख रही थी। टॉमी समीना के बेड के करीब आकर खड़ा हो गया। समीना का पैर बेड के किनारे पर था। टॉमी ने अपना बड़ा सा मुँह आगे ला कर उसके सैंडल और पैर को अपनी नाक के साथ ज़ोर-ज़ोर से सूँघा तो समीना के पूरे जिस्म में सनसनाहट फैल गयी। अगले ही लम्हे टॉमी ने अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और अपनी लंबी ज़ुबान से समीना के सैंडल के तलवे और फिर उसके पैर के ऊपर एक बार लंबा चाटा। समीना का पूरा जिस्म काँप सा गया। उसने अपना पैर थोड़ा पीछे खींच लिया... बेड के किनारे से दूर। जैसे ही समीना का सैंडल पहना हुआ गोरा-गोरा पैर टॉमी के मुँह से दूर हुआ तो उसने एक बार समीना की तरफ़ देखा। उसके मुँह से हल्की सी गुर्राहट निकली... जैसे उसे समीना की ये हरकत पसंद नहीं आयी हो और अगले ही लम्हे टॉमी ने एक छलांग लगायी और समीना के बेड पर चढ़ गया। समिना!

टॉमी समीना के नरम-नरम बिस्तर पे चढ़ा हुआ था। उसका भारी भरकम जिस्म जैसे पूरे बेड को कवर कर रहा था। उसके सामने बेड पर सिर्फ़ ब्रा, पैंटी और ऊँची हील वाले सैंडल पहने लेटी हुई समीना को अपना जिस्म उसके मुकाबले में बहोत छोटा लग रहा था। सच मनो तो समीना को अब टॉमी से थोड़ा-थोड़ा खौफ़ सा भी महसूस होने लगा था। खौफ़ आता भी क्यों नहीं। एक तो वो जानवर था... इतने नोकीले लंबे-लंबे दाँतों वाला... और फ़िर उसका जिस्म भी समीना के नाज़ुक जिस्म से ज्यादा ताक़तवर और वज़नी था। समीना हौले से आवाज़ निकालती हुई कसमसायी, ट...ट...टॉमी ये... ये... ये क्या कर रहे हो... चलो नीचे उतरो बेड से!

समीना की आवाज़ में अपने पालतू जानवर के लिये हुक्म नहीं था। बल्कि उसकी आवाज़ से तो ऐसा लग रहा था कि जैसे वो टॉमी की मिन्नत कर रही हो बिस्तर से नीचे उतरने के लिये। मगर वो दरिंदा तो इस वक़्त अपनी मालकिन की कोई भी बात सुनने और मानने को तैयार नहीं था। उसने दोबारा से अपना मुँह नीचे किया और अपनी ज़ुबान बाहर निकाल कर समीना के सैंडल कि पट्टियों में से उसके पैर को चाटने लगा। कभी उसके सैंडल के तलवे को चाटता और कभी पैर के ऊपरी हिस्से को। आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी की ज़ुबान समीना के पैर से ऊपर को आने लगी और उसकी टाँग के निचले हिस्से को चाटने लगी। टॉमी की ज़ुबान तेज़ी के साथ उसके मुँह के अंदर-बाहर हो रही थी और वो तेज़ी से समीना की टाँग को चाट रहा था। आहिस्ता-आहिस्ता वो और ऊपर को जाने लगा और उसके घुटने को चाटते हुए उसकी नंगी गोरी रान पर आ गया और उसकी ज़ुबान अब समीना की रानों का चाटने लगी... कभी एक रान तो कभी दूसरी रान को चाटती।

अब टॉमी की आवाज़ में कोई गुर्राहट नहीं थी। बल्कि वो तो बहोत ही प्यार के साथ समीना की रानों को चाट रहा था। समीना को जो थोड़ी देर पहले टॉमी से थोड़ा-सा खौफ़ महसूस हो रहा था वो भी जाता रहा था। बल्कि अब उसके मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ निकल रही थीं। उसकी टाँगें खुद-ब-खुद ही खुलती जा रही थीं... टॉमी की ज़ुबान को अपनी रानों के दर्मियान का हिस्सा दिखाने के लिये कि वो वहाँ भी अपनी ज़ुबान का जादू चलाये। और टॉमी ने भी अपनी प्यारी सी खूबसूरत सी मालकिन को मायूस नहीं किया था। वो अब समीना की रानों का अंदर का हिस्सा भी चाट रहा था। उसकी ज़ुबान समीना की चूत के करीब हरकत कर रही थी मगर एक बार भी उसकी ज़ुबान समीना की चूत से नहीं टकरायी थी। समीना की चूत ने गरम होते हुए थोड़ा-थोड़ा पानी छोड़ना शुरू कर दिया था। उसकी चूत के पानी की मखसूस महक टॉमी को भी आ रही थी और फ़िर उसने अपनी थूथनी समीना की पैंटी के ऊपर से उसकी चूत पे रखी और समीना की चूत को सूँघने लगा।

जैसे ही टॉमी का मुँह समीना की चूत से टकराया तो समीना को बहोत ही अजीब सा मगर बहोत ही अच्छा लगा। उसका दिल चाहा कि जैसे टॉमी अपना मुँह उसके पैरों पर हमेशा रगड़ता है वैसे ही यहाँ उसकी चूत को भी अपने मुँह से ज़ोर ज़ोर से रगड़ दे। टॉमी ने अपना मुँह समीना की चूत के ऊपर उसकी पैंटी के ऊपर से ही रगड़ा। अपनी लंबी सी ज़ुबान बाहर निकाली और पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत के फूले हुए हिस्से को दो-तीन बार चाटा और फ़िर उसके नंगे पेट की तरफ़ बढ़ा। समीना की चूत उसकी मोटी ज़ुबान के चाटने से फड़कने लगी थी। उसके अंदर जैसे पानी-पानी सा होने लगा था। जैसे ही टॉमी ने अपना सिर हटाया तो समीना का दिल चाहा कि वो उसकी चूत को और भी कुछ देर के लिये चाटे मगर टॉमी ने इस बार अपनी मालकिन की ख्वाहिश का एहतराम नहीं किया और अपने मुँह को समीना की चूत पर से हटा कर आगे ऊपर की तरफ़ बढ़ गया।

टॉमी अब बेड पर ही चलता हुआ समीना के मुँह के करीब आ चुका था। उसने अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और समीना के गाल को चाट लिया। टॉमी ने आज तक सिर्फ़ समीना के पैरों को ही चाटा था मगर आज वो उसके पैरों से आगे बढ़ आया था और उसके चेहरे... उसके गालों तक पहुँच गया था और अपनी लंबी गुलाबी खुरदरी ज़ुबान से समीना के गाल को चाट रहा था। समीना भी कोई मुज़ाहमत नहीं कर रही थी... उसे रोकने की कोई कोशिश नहीं कर रही थी। शायद इसलिये कि उसे खुद भी मज़ा आ रहा था टॉमी की ज़ुबान को अपने गालों पर महसूस करते हुए ।

टॉमी ने अपनी ज़ुबान को समीना के होंठों पर फेरते हुए उसके होंठों को चाटने की कोशिश करने लगा। आज पहली बार ऐसा हो रहा था कि टॉमी उसके होंठों को चाटना चाह रहा था, जोकि समीना के लिये नयी बात थी और थोड़ी मुश्किल भी। इसी लिये समीना उसका मुँह परे हटाने की कोशिश करने लगी ताकि टॉमी की ज़ुबान उसके होंठों को नहीं चाटे और वो अपना थूक उसके होंठों पर नहीं लगा दे। मगर टॉमी कहाँ मानने वाला था। उसने अपने अंदाज़ में ही समीना के साथ खेलते-खेलते अपनी पोज़िशन तबदील की और समीना के नाज़ुक से जिस्म को अपनी टाँगों के दर्मियान ले लिया... वो ऐसे कि अब समीना का जिस्म टॉमी की दोनों तरफ़ की टाँगों के बीच में था। टॉमी की अगली टाँगें समीना के सीने और उसकी दोनों बाज़ुओं के दर्मियान थीं और पिछली टाँगें उसके गोरे-गोरे चूतड़ों के गिर्द। टॉमी अब पूरी तरह से समीना के जिस्म पर छाया हुआ था। बिल्कुल ऐसा नज़र आ रहा था कि जैसे कोई मर्द समीना के जिस्म पर सवार हो उसे रौंदने के लिये... उसका रेप करने के लिये। अब दोबारा से टॉमी ने अपना मुँह नीचे ला कर समीना के होंठों को चाटना चाहा।

समीना टॉमी की इस पोज़िशन से घबरा गयी थी। वो डर गयी थी कि टॉमी जैसे सेहतमंद और भारी जिस्म के कुत्ते के नीचे थी वो। उसे डर लगने लगा के कहीं टॉमी उसे कोई नुकसान ही ना पहुँचा दे... कहीं अपने बड़े-बड़े नोकीले दाँतों के साथ उसे काट ही ना दे। इसी लिये वो थोड़ी सहम सी गयी और अब की बार जब टॉमी ने अपना मुँह नीचे ला कर समीना के होंठों को चाटने की कोशिश की तो समीना अपना मुँह उसके आगे से नहीं हटा सकी और अपने चेहरे को टॉमी के सामने बिल्कुल एक ही जगह पर रखते हुए खौफ़ज़दा नज़रों से उसकी आँखों में देखती रही। टॉमी ने जब देखा कि उसकी मालकिन अब कोई मुज़ाहमत नहीं कर रही है तो उसने अपनी लंबी सी ज़ुबान निकाली और समीना के गुलाबी पतले-पतले होंठों को चाटने लगा। उसकी लंबी खुरदरी गुलाबी ज़ुबान एक ही बार में उसके दोनों होंठों को और पूरे मुँह को चाट लेती और वो उसके होंठों को अपने थूक से गीला करने लगा।

समीना को भी महसूस होने लगा कि टॉमी के अंदाज़ में कोई गुस्सा या वहशियानापन नहीं है बल्कि वो अब अपनी रोज़ की रूटीन की तरह ही समीना को चाट रहा है तो समीना भी थोड़ा रिलैक्स होने लगी। उसने अपने दोनों हाथों को नीचे से उठाया और टॉमी की कमर को सहलाने लगी और कभी-कभी उसके पेट को सहलाने लगती ताकि टॉमी भी कुछ और खतरनाक हरकत करते हुए उसे कोई नुकसान नहीं पहुँचाये। टॉमी भी जैसे इस खेल में मज़ा लेने लगा। वो बार-बार अपनी ज़ुबान से समीना के चेहरे और उसके होंठों को चाट रहा था। एक बार समीना ने टॉमी को पीछे करते हुए उसे रोकने के लिये उसका नाम लेने के लिये अपना मुँह खोला तो जैसे ही समीना का मुँह खुला ठीक इसी वक़्त टॉमी की ज़ुबान समीना के होंठों पर आयी और मुँह खुला पाते हुए सीधी उसके मुँह के अंदर घुस गयी। जैसे ही टॉमी की ज़ुबान समीना के मुँह के अंदर दाखिल हुई तो बे-इख्तियारी तौर पर उसे रोकने के लिये समीना का मुँह बंद हो गया। लेकिन इससे पहले काफ़ी देर हो चुकी थी और जो होना था या जो टॉमी करना चाहता था वो हो चुका था। बल्कि इससे कुछ ज्यादा ही हुआ था और वो ये कि जैसे ही समीना ने अपने मुँह को बंद किया तो टॉमी की लंबी ज़ुबान जोकि पहले ही समीना के मुँह के अंदर दाखिल हो चुकी थी अब समीना का मुँह बंद होने की वजह से उसके होंठों के बीच में जकड़ी गयी... एक जानवर... एक कुत्ते की ज़ुबान एक इंसान... एक इंतेहाई खूबसूरत औरत के मुँह के अंदर। उफफफ क्या मंज़र था। समीना खुद भी हैरान रह गयी कि ये क्या हो गया है। मगर अब तो वो कुछ भी नहीं कर सकती थी।

टॉमी की ज़ुबान अभी भी समीना के मुँह के अंदर थी और अभी भी वो उसे हरकत दे रहा था और अब इस जानवर की ज़ुबान समीना जैसी खूबसूरत औरत की ज़ुबान से रगड़ खा रही थी और उसके मुँह को अंदर से जैसे चाट रही थी। समीना ने अपने दोनों हाथों को उसके बड़े से मुँह पर रखते हुए उसे पीछे करने की कोशिश की और अपना मुँह खोल कर दूसरी तरफ़ किया और टॉमी की ज़ुबान अपने मुँह से निकाली। टॉमी ने भी कोई मुज़ाहमत नहीं की और ना ही कोई ज़बरदस्ती करने की कोशिश की। समीना अपनी जगह से उठने लगी तो अब की बार टॉमी समीना के ऊपर से उतर गया और समीना जल्दी से उठ कर बेड से टेक लगा कर बैठ गयी। टॉमी अभी भी उसके सामने खड़ा था और अभी भी जैसे उसके ऊपर ही चढ़ा हुआ था। मगर अब फ़िर से उसका अंदाज़ प्यार और लाड़ भरा था... खेलने के अंदाज़ में और अब भी वो बार-बार समीना के गालों को अपनी ज़ुबान से छूने की कोशिश कर रहा था और इसमें वो कामयाब भी हो जाता था।

समीना बोली, बस! बस! इट्स इनफ टॉमी...! गो... गो नाओ!

टॉमी भी समीना की बात समझ गया हमेशा की तरह और समीना के पास ही बेड के ऊपर बैठ गया समीना के पैरों के करीब और उसके सैंडलों और पैरों को चाटने लगा और अपना सिर और मुँह समीना के पैरों पर रगड़ने लगा। समीना भी आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के जिस्म पर हाथ फिराने लगी और उसके फ़र को सहलाने लगी। आज एक बार तो टॉमी ने समीना को डरा ही दिया था मगर उसके साथ-साथ जो उसने मज़ा दिया था वो भी अलग ही था। ये इसी लज़्ज़त और मज़े का ही नतीजा था कि समीना अभी भी नंगी हालत में सिर्फ़ ब्रा-पैंटी और हाई हील सैंडल पहने हुए अपने टॉमी के पास बेड पे लेटी हुई थी और वो भी बार-बार अपना मुँह और जिस्म समीना के नंगे जिस्म से रगड़ रहा था। दोनों की ही साँसें तेज़-तेज़ चल रही थीं। समीना को अपना मुँह अभी भी टॉमी के थूक से गीला महसूस हो रहा था और अपने मुँह के अंदर उसे अभी भी टॉमी की ज़ुबान का लम्स महसूस हो रहा था और यही सब सोचते हुए समीना मुस्कुराती हुई टॉमी के जिस्म को सहला रही थी।

कुछ देर के बाद समीना ने अपने बेड से उठ कर कपड़े पहने और दरवाज़ा खोल कर बाहर निकलने लगी। टॉमी ने अपनी मालकिन को बाहर जाते हुए देखा तो वो भी बेड से नीचे उतरा और अपनी दुम्म हिलाता हुआ समीना के पीछे-पीछे चल पड़ा। किचन में समीना ने जा के खानसामा के साथ किचन का काम देखा और टॉमी लाऊँज में ही था। समीना को बस यही डर था कि टॉमी जमाल या किसी के भी सामने कोई वैसी हरकत नहीं कर दे जैसी वो उसके साथ कमरे में करता हुआ आया है। मगर शुक्र है कि टॉमी बिल्कुल अपनी रोज़ की रूटीन की तरह रहा। अपने अंदाज़ में कोई भी तबदीली ज़ाहिर नहीं हुई उसके अंदर जिससे समीना भी खुश और मुतमाइन हुई। लेकिन ये बात ज़रूर है कि उसकी नज़रें सारी शाम टॉमी पर ही टिकी रहीं। वो उसके अंदर आज पैदा होने वाली तबदीली और उसके इस नये अंदाज़ पर गौर करती रही। जैसे-जैसे वो उसके बारे में सोचती जाती, वैसे-वैसे ही उसे अच्छा लगने लगता... कुछ भी बुरा नहीं लगता। तभी उसे ये भी याद आया कि उसने उठ कर अपना मुँह भी नहीं धोया था और ना ही कुल्ली की थी और अभी तक वो टॉमी का थूक वैसे ही अपने चेहरे और मुँह के अंदर लिये हुए फ़िर रही थी। लेकिन इस बात के याद आने पर भी वो बस मुस्कुरा ही दी... बिना खुद से या टॉमी से नफ़रत किये। जब-जब समीना को खयाल आता उस मज़े का जो टॉमी की ज़ुबान ने उसके जिस्म को और खास तौर पर उसकी चूत को चाट कर दिया था तो उसका दिल ज़ोरों से धड़क जाता और दिल चाहता कि बस अभी के अभी एक बार फ़िर उसके सामने नंगी हो जाये और उससे अपने जिस्म को चटवाये और वो ही लज़्ज़त दोबारा हासिल करे मगर उसे पता था कि अभी इस बात का मौका नहीं है। उसे इस लज़्ज़त को दोबारा पाने के लिये अगले दिन तक का इंतज़ार करना होगा जब वो घर में अकेली होगी अपने टॉमी के साथ... सिर्फ़ वो और टॉमी... और फ़िर ही वो मस्तियाँ कर सकेंगे। इस वक़्त तो अपने जज़बातों और ख्वाहिशों पर काबू पाने के लिये समीना ने वोडका का एक बैड़ा पैग बनाया और पीने लगी।

अगली सुबह जमाल नाश्ता कर के अपने दफ़्तर जाने के लिये तैयार हुआ और साढ़े नौ बजे के करीब अपनी कार में बैठ कर निकल गया। समीना को भी एक किट्टी-पार्टी में जाना था तो वो भी तैयार होने लगी। टॉमी उसके पीछे-पीछे अपनी दुम्म हिलाता हुआ फिर रहा था और समीना जानती थी कि वो उसे खुश करने की कोशिश कर रहा है। समीना ने बड़े प्यार से उसके सिर सहलाते हुए कहा कि उसके पार्टी से वापस लौटने तक सब्र करे। फिर समीना हमेशा की तरह नये फ़ैशन का डिज़ाऑयनर सलवार-कमीज़ पहन कर अच्छे से तैयार हुई और साथ में पाँच इंच ऊँची पेन्सिल हील के बेहद सैक्सी सैंडल पहने। फिर वो ग्यारह बजे के करीब ड्राइवर के साथ मर्सिडीज़ कार में पार्टी में जाने के लिये निकल गयी। ये अमीर घरों की औरतों की किट्टी-पार्टी थी जिसमें हर दो हफ़्ते में एक बार बीस-पच्चीस औरतें सज-धज कर शरीक़ होती थीं और पैसे लगा कर ताश खेलती... इधर-उधर की बातें और गॉसिप करतीं थीं। इसके अलावा शराब पीना इन किट्टी-पार्टियों में मामुल था। उस दिन समीना ने पार्टी में काफी इंजॉय किया। जब वो चार घंटे बाद वहाँ से निकली तो काफी शराब पी हुई थी और काफ़ी नशे मे थी लेकिन नशा इतना भी नहीं था कि वो खुद को संभाल ना सके या। समिना!

घर पहुँच कर ड्राइवर ने कार गेट के अंदर ला कर जैसे ही खड़ी की तो टॉमी भागता हुआ कार तक आया। समीना कार से उतरी तो टॉमी हमेशा की तरह प्यार से उसके सैंडल और पैर चाटने लगा। फिर चौंकीदार ने गेट बंद किया और समीना घर के अंदर की तरफ़ चल दी। चलते हुए उसके कदम ज़ाहिर तौर पे नशे में थोड़े लड़खड़ा से रहे थे। चौंकीदार और ड्राइवर के लिये नयी बात नहीं थी इससे पहले भी बहोत बार उनकी मालकिन कभी अपने शौहर के साथ और कभी अकेली इससे भी ज्यादा नशे की हालत में घर वापस आयी थी। समीना थोड़ा लड़खड़ाती हुई अंदर जा रही थी और टॉमी भी समीना के पीछे-पीछे था अठखेलियाँ करता हुआ... कभी उससे आगे निकलता तो कभी पीछे चलने लगता और कभी उसकी टाँगों से अपना जिस्म सहलाता। समीना उसकी हरकतों को देख-देख कर मुस्कुरा रही थी कि कैसे वो अपनी मालकिन को खुश करने की कोशिश कर रहा है ताकि आज फ़िर वो कल वाला खेल खेल सके। समीना की मुस्कुराहट टॉमी को बता रही थी के उसकी मालकिन को भी कोई एतराज़ नहीं है।

घर के अंदर आकर समीना ने अंदर से दरवाज़ा लॉक कर लिया। अब वो घर के अंदर टॉमी के साथ बिल्कुल अकेली थी। उसे थोड़ी सी बेचैनी भी हो रही थी कि पता नहीं अब क्या होगा। समीना सोफ़े की कुर्सी पर बैठी थी और टॉमी भी उसके करीब ही नीचे ज़मीन पर इधर-उधर फ़िर रहा था... समीना के इर्द गिर्द... उसको लुभाने और अपनी तरफ़ मुत्वज्जाह करने के लिये। समीना ने टेबल पर प्लेट में रखी ब्रेड का एक टुकड़ा कुछ दूर नीचे क़लीन पर फेंका और टॉमी को उसे खाने का इशारा किया। टॉमी ने उस ब्रेड के टुकड़े की तरफ़ देखा और फ़िर से अपना सिर समीना के पैरों पर रगड़ते हुए समीना के गिर्द घूमने लगा। समीना ने दो चार टुकड़े ब्रेड के और भी नीचे फ़ेंके मगर टॉमी ने उनकी तरफ़ भी तवज्जो नहीं दी। समीना समझ गयी कि आज टॉमी की दिलचस्पी कुछ खाने पीने में नहीं बल्कि उसके साथ कल वाला खेल खेलने में है।

कुछ देर के बाद समीना अपनी जगह से उठी और अलमारी में रखे हुए कुत्तों के स्पेशल बिस्कुट निकाल कर एक प्लेट में रख कर नीचे कार्पेट पर टॉमी के आगे रखे। टॉमी उनको खाने लगा और समीना टॉमी को वहीं किचन में छोड़ कर अपने कमरे में आ गयी। समीना ने अपने कमरे में आते ही सैंडल छोड़ कर अपने बाकी सारे कपड़े उतार दिये और बाथरूम में चली गयी फ्रेश होने के लिये। समीना फ्रेश होकर फ़ारिग़ हुई तो कपड़े पहनने की बजाय एक बड़ा सा तौलिया अपने जिस्म पर लपेट कर बाहर निकल आयी। तौलिया उसके मम्मों के ऊपरी हिस्से से ले कर उसकी आधी रानों तक था और बाकी का पूरे का पूरा गोरा-गोरा जिस्म बिल्कुल नंगा था। समीना के लिये ये कोई नयी बात नहीं थी। वो अक्सर नहाने के बाद भी ऐसे ही बिना तौलिया लपेटे ही बाहर आकर सबसे पहले अपने सैंडल पहनती और फ़िर बाल ब्रश करने के बाद फ़िर कपड़े पहनती थी। आखिर घर के अंदर और कोई होता ही नहीं था तो वो किससे डरती या पर्दा करने की कोशिश करती। आज भी समीना नहा कर तौलिया लपेट कर बाहर आयी और बेडरूम में सोफ़े की कुर्सी पर बैठ गयी। सैंडल तो उसने पहले उतारे ही नहीं थे।

शराब का नशा समीना पर अभी भी छाया हुआ था और समीना को ये सुरूर बहोत खुशगवार लग रहा था। शराब के नशे की कैफ़ियत में हमेशा ही समीना के जिस्म की गर्मी बढ़ जाती थी और चूत में मीठी सी मस्ती भरी कसक उठने लगती थी। वो आँखें बंड करके बैठी हुई टॉमी के बारे में सोचने लगी। वो कुछ फ़ैसला नहीं कर पा रही थी कि कल की तरह आज भी टॉमी के साथ मज़े और लज़्ज़त का वो ही खेल खेले या कि नहीं। एक तरफ़ उसे ये बात रोक रही थी कि वो एक इंसान है तो कैसे किसी जानवर को अपने जिस्म से इस तरह खेलने दे सकती है जबकि ये बात मुआशरे... मज़हब... और इख्लाकियत... सबके खिलाफ़ थी। मगर दूसरी तरफ़ शैतान उसे बहका रहा था कि जो मज़ा उसे कल एक कुत्ते की ज़ुबान से मिला है वो कभी उसे मर्द... एक इंसान की ज़ुबान से नहीं मिला था। और फ़िर अंग्रेज़ औरतें तो पता नहीं क्या-क्या करती हैं जानवरों के साथ... और वो तो सिर्फ़ थोड़ा बहोत अपने टॉमी के साथ खेल ही रही है ना। वो औरतें तो कुत्तों से ही नहीं बल्कि गधे-घोड़ों से भी अपनी चूत तक चुदवा लेती हैं और वो तो बस अपने जिस्म को ही अपने कुत्ते से चटवा रही है ना। यही सब सोचते हुए उसका हाथ तौलिये के नीचे अपनी चूत तक पहुँच चुका था और वो अपनी चूत को सहला रही थी। उसे इस बात का पता भी नहीं चला था कि कब उसका हाथ अपनी चूत पे पहुँच के उसे सहलाने लगा था। आखिर में समीना ने सब कुछ हालात पर छोड़ दिया कि जो होगा देखा जायेगा।

बेडरूम का दरवाज़ा लॉक नहीं था... बस हल्का सा ही बंद था। थोड़ी देर में समीना को दरवाज़ा खुलने की आवाज़ सुनायी दी। उसने आँखें खोल कर दरवाज़े की तरफ़ देखा तो खुले हुए दरवाज़े में से टॉमी कमरे में दाखिल हो रहा था। उसे अपने कमरे में दाखिल होता हुआ देख कर समीना का दिल ज़ोर से उछल पड़ा और उसके हाथ भी एक लम्हे के लिये तो काँप ही गये और उसने अपनी चूत सहलाना बंद कर दिया। टॉमी छोटे-छोटे क़दमों के साथ आहिस्ता-आहिस्ता दौड़ता हुआ समीना की तरफ़ आया और आकर अपना मुँह समीना की नंगी बाज़ू से रगड़ने लगा। समीना ने भी अपने एक हाथ के साथ टॉमी के सिर को सहलाना शुरू कर दिया।

समीना सोफ़े की कुर्सी पर ऐसे बैठी हुई थी के सिर्फ़ उसका तौलिया उसके जिस्म पर था। उसके मम्मों का ऊपरी हिस्सा और उनके दर्मियान बनती हुई गहरी लकीर भी साफ़ नज़र आ रही थी। निचले हिस्से में उसका तौलिया उसकी आधी रानों तक चढ़ा हुआ था और उसकी गोरी-गोरी आधी रानें और उनसे नीचे पूरी की पूरी चिकनी टाँगें बिल्कुल नंगी थीं। पैरों में बेशक ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल मौजूद थे। टॉमी ने जब अपनी मालकिन को उसकी मोहब्बत का जवाब मोहब्बत से देते हुए देखा तो वो फ़ौरन ही समीना के घुटनों को अपनी ज़ुबान से चाटने लगा।

समीना हौले से चिल्लायी, ऐऐऐ टॉमी! क्या कर रहे हो यार! अभी मैं पार्टी में से थकी हुई आयी हूँ और तुम फ़िर से मेरा जिस्म चाटने लगे हो... हटो पीछे प्लीज़्ज़्ज़!

समीना उसे कह तो रही थी मगर उसे अपने पास से हटाने के लिये कोई ज़ोर नहीं लगा रही थी। बल्कि उसके सिर पे हाथ फेरते हुए उसे पीछे हटाना चाह रही थी। मगर टॉमी कहाँ मानने वाला था। था तो कुत्ता ही ना... उसने भला किसी की क्या बात माननी है। वो अपनी मर्ज़ी की मुताबिक़ नीचे समीना के सैंडलों के तलवों से ले कर उसकी घुटनों तक उसकी टाँगों को चाटने लगा और अपनी लंबी सी गुलाबी गीली-गीली ज़ुबान से समीना की टाँगों को गीला करने लगा। बूरा तो समीना को भी नहीं लग रहा था। अभी जो काफ़ी देर तक यहाँ बैठी वो सोच रही थी वो सब कुछ एक बार फ़िर उसके साथ होने लगा था। एक बार फ़िर उसका जिस्म-ओ-दिल, दिमाग का साथ छोड़ कर लज़्ज़त का साथ देने लगे थे और बहकने लगे थे... इस अनोखे प्यार... अनोखी चाहत में खोने लगे थे। आह... हे.. हे... हे... ऊँममम... सीईईई! उसके मुँह से सिसकारियाँ सी निकलने लगी थीं। वो टॉमी को खुद से दूर करने की बजाय आहिस्ता-आहिस्ता उसका जिस्म और सिर सहला रही थी। टॉमी को और भी शह दे रही थी। लेखक: पिंकबेबी

टॉमी था तो कुत्ता... मगर था ज़हीन। अपनी मालकिन की मर्ज़ी को समझ गया था। वो भी अब समीना के पैरों और घुटनों को चाटना छोड़ कर अब समीना के नंगे बाज़ुओं को चाटने लगा था। टॉमी भी पूरे जोश में था। उसकी ज़ुबान बड़ी तेज़ी के साथ उसके मुँह में अंदर-बाहर हो रही थी और समीना के नंगे गोरे-गोरे बाज़ुओं को चाट रही थी। फ़िर वो उसके कंधों तक पहुँच गया और समीना के कंधों को अपनी ज़ुबान से चाटने लगा। फ़िर टॉमी ने अपना मुँह खोल कर समीना के कंधे की गोलाई को अपने अगले नोकदार दाँतों के बीच में लिया और आहिस्ता से उसे अपने अगले दाँतों में दबाने लगा जैसे कि वो समीना को काटने लगा हो। मगर वो काट नहीं रहा था बल्कि जानवरों के मखसूस अंदाज़ में वो समीना से... अपनी मालकिन से... प्यार कर रहा था। पहले-पहल तो समीना को डर लगा कि टॉमी उसे काटने लगा है मगर जब टॉमी के नोकीले दाँतों का बस हल्का-हल्का दबाव ही उसे अपने कंधों पर महसूस हुआ तो उसका खौफ़ कम हुआ और जब टॉमी के इस तरह से हौले-हौले काटने से समीना को लुत्फ़ आया तो उसके मुँह से भी बे इख्तियार सिसकरी निकल गयी और साथ में ही लज़्ज़त के मारे उसकी आँखें बंद हो गयीं। टॉमी के दाँत समीना को अपने गोश्त में धंसते हुए महसूस तो हो रहे थे मगर उसे लग रहा था कि इस में उसे कोई तकलीफ नहीं हो रही थी। इसी लिये वो भी उसे अब रोक नहीं रही थी। टॉमी ने अपने दाँत हटाये तो समीना के कंधे पर उसके दाँतों के हल्के-हल्के निशान पड़ रहे थे और टॉमी ने इसी जगह को अपनी ज़ुबान से चाटना शुरू कर दिया।

लज़्ज़त के मारे समीना की आँखें बंद हो रही थीं। टॉमी उसके नंगे गोरे-गोरे कंधे को चाटता हुआ उसकी गर्दन की तरफ़ बढ़ने लगा और उसकी गर्दन को अपनी ज़ुबान से चाटने लगा। टॉमी से समीना का हर तरह का खौफ़ खतम हो चुका हुआ था। अब वो उसे रोक नहीं रही थी बल्कि उसके जिस्म पर अपना हाथ फ़ेर रही थी और उसके जिस्म को सहला रही थी... उसकी गर्दन को सहला रही थी। जैसे ही टॉमी की ज़ुबान... लंबी खुरदरी ज़ुबान समीना के चेहरे पर पहुँची तो उसने आज एक बार फ़िर से समीना के गोरे-गोरे गालों को चाटना शुरू कर दिया। वो गाल जो आज तक सिर्फ़ उसके शौहर ने ही चूमे और चाटे थे और अब एक कुत्ता भी इस में उसके शौहर का हिस्सेदार हो चुका था। जमाल खान जैसे बड़े आदमी की खूबसूरत बीवी के गोरे-गोरे गालों को एक कुत्ता... उनका अपना कुत्ता चाट रहा था और अपने थूक से उसका पूरे का पूरा चेहरा भर रहा था। अब तो उसकी ज़ुबान समीना के होंठों पर भी पहुँच रही थी और उसके होंठों को चाटने लगी। आज समीना ने टॉमी की इस हरकत का कुछ बुरा नहीं मनाया। बल्कि अपने सामने खड़े हुए टॉमी की गर्दन को सहलाती रही। समीना सोफ़े की कुर्सी पर बैठी हुई थी और टॉमी उसके सामने खड़ा था। इस पोज़िशन में टॉमी का मुँह समीना के चेहरे के बराबर आ रहा था। इस क़दर बड़ा कद और जसामत थी टॉमी की।

जैसे-जैसे टॉमी की ज़ुबान समीना के होंठों को चाटती जाती थी, वैसे-वैसे समीना की मस्ती में इज़ाफ़ा होता जा रहा था। उसे आज ये सब कुछ बुरा नहीं लग रहा था और उसने एक बार भी टॉमी को पीछे हटाने की कोशिश नहीं की और अपने होंठों को उसके सामने से हटाये बगैर टॉमी के सामने बैठी थी। आहिस्ता-आहिस्ता समीना के होंठ खुलने लगे। दोनों होंठों के दर्मियान में खला बनने लगा और पता नहीं क्यों और कैसे, बिना सोचे समझे, बंद आँखों के साथ ही। समीना की ज़ुबान उसके मुँह से बाहर निकल आयी और अगले ही लम्हे समीना की ज़ुबान टॉमी की ज़ुबान से टकरा रही थी। टॉमी की ज़ुबान तेज़ी के साथ हरकत करती हुई समीना की ज़ुबान को चाट रही थी और अब तो समीना की ज़ुबान ने भी थोड़ी हरकत शुरू कर दी हुई थी। दोनों की ज़ुबानें एक दूसरे से टकरा रही थीं और समीना टॉमी के साथ ऐसे मस्त थी जैसे कि वो कोई जानवर नहीं बल्कि उसका कोई आशिक़ हो जिसके साथ वो मस्ती कर रही हो। एक बार तो समीना ने खुद टॉमी की लंबी सी ज़ुबान को अपने होंठों में पकड़ने की कोशिश की और एक-दो बार की कोशिश के बाद इसमें कामयाब हुई। मगर सिर्फ़ थोड़ी देर के लिये ही वो उसकी ज़ुबान को चूस सकी और फ़िर टॉमी की ज़ुबान उसके मुँह में से सरक गयी और फिसल कर बाहर निकल गयी।

ऐसे ही टॉमी के साथ कीसिंग करते हुए और उसके साथ ज़ुबान लड़ाते हुए समीना को पता भी नहीं चला कि कब उन दोनों के जिस्मों की हरकत से समीना के जिस्म पर लिपटा हुआ तौलिया जो उसके सीने के उभारों को... उसके मम्मों को ढाँपे हुए था, वो खुल कर उसके सीने से सरक कर उसकी गोद में आ गिरा। उसके साथ ही समीना के खूबसूरत गोरे-गोरे मम्मे टॉमी के सामने नंगे हो गये। समीना के होंठों और फ़िर ठोढ़ी को चाटता हुआ टॉमी नीचे उसके सीने की तरफ़ आने लगा और फ़िर समीना के गोरे-गोरे सीने को अपनी लंबी ज़ुबान से चाटने लगा। उसकी ज़ुबान जैसे ही समीना के मम्मे से टकरायी तो समीना के मुँह से सिसकारी निकल गयी। मगर टॉमी कहाँ रुकने वाला था। वो तेज़ी के साथ समीना के मम्मों को चाटने लगा... कभी एक को तो कभी दूसरे को। जैसे-जैसे टॉमी की ज़ुबान समीना के निप्पलों को रगड़ने लगी तो समीना तो जैसे तड़पने लगी। मुँह से सिसकारियाँ निकालते हुए वो टॉमी के सिर को अपने सीने की तरफ़ खींचने लगी। अजीब हालत हो रही थी समीना की। आज तक कभी पहले समीना को अपने निप्पलों के छुए जाने से इस क़दर मज़ा नहीं आया था जितना आज उसे टॉमी की ज़ुबान अपने निप्पलों से छूने की वजह से मिल रहा था।

कुछ देर तक समीना के सीने और मम्मों को चाटने के बाद एक बार फ़िर से टॉमी ने समीना को अपने तरीके से काटना शुरू कर दिया। इस बार टॉमी ने अपना मुँह खोला और समीना के पूरे के पूरे मम्मे को अपने बड़े से मुँह के अंदर लेने लगा। अपने दाँतों के दर्मियान और अपने दाँतों में लेकेर उसने एक बार फ़िर से आहिस्ता-आहिस्ता समीना के मम्मे को काटना शुरू कर दिया और अपने दाँतों के बीच में उनको दबाने लगा। समीना के मुँह से हल्की-हल्की चींखें निकलने लगीं... दर्द और खौफ़ के मारे नहीं बल्कि लज़्ज़त के साथ। टॉमी समीना के मम्मों को बारी-बारी ऐसे जगह-जगह से काट रहा था कि जैसे वो उनको खाने की कोशिश कर रहा हो। ऐसे ही तेज़ी के साथ अपनी काटने की जगह तबदील करते हुए समीना का एक निप्पल उसके दाँतों के बीच आ गया और जैसे ही टॉमी ने उसे काटा तो समीना की तो जैसे जान ही निकल गयी। एक तेज़ सिसकारी और चींख उसके हलक़ से निकली... अपने निप्पल में होने वाले हल्के से दर्द की वजह से। मगर उसके साथ ही उसके सारे जिस्म में लज़्ज़त-अमेज़ लहरें दौड़ने लगीं। उसकी चूत गीली होने लगी जोकि इस वक़्त उसके जिस्म का वाहिद हिस्सा था जोकि तौलिये से ढका हुआ था।

समीना को इस क़दर लज़्ज़त मिली... इतना मज़ा आया कि उसने टॉमी का सिर अपने दोनों हाथों में पकड़ा और अपने मुँह की तरफ़ लाते हुए अपने होंठ टॉमी के मुँह के अगले काले हिस्से यानी उसके होंठों पर रख दिये और एक बार उसे चूमने के बाद उसके होंठों पर अपनी ज़ुबान फिराने लगी। टॉमी की हरकतें समीना को मस्त करती जा रही थीं। कुछ देर पहले तक वो टॉमी के साथ कुछ करने या ना करने का फ़ैसला नहीं कर पा रही थी और अब वो खुद को टॉमी के रहम-ओ-करम पर छोड़ चुकी थी और हालात की लहरों पर बहती चली जा रही थी... टॉमी के साथ... जो मस्ती और अनोखी लज़्ज़त के सफ़र में समीना के साथ था। बल्कि इस सफ़र पे समीना को ले जाने वाला भी टॉमी ही था।

कुछ देर के बाद समीना ने अपने जिस्म पर मौजूद आखिरी मगर बे-मक़सद कपड़ा... अपनी रानों पर पड़ा हुआ तौलिया भी उतार के नीचे कार्पेट पे फेंक दिया और अब वो टॉमी के सामने ऊँची हील के सैंडल के अलावा बिल्कुल नंगी थी और टॉमी...वो तो अज़ल से ही नंगा था। जैसे ही टॉमी ने समीना की नंगी रानों को देखा तो फ़ौरन ही नीचे को आकर उसकी रानों को चाटने लगा... कभी एक तो कभी दूसरी को... कभी यहाँ से तो कभी वहाँ से... समीना की रानों को चाटता हुआ टॉमी उसकी रानों के अंदर के हिस्सों की तरफ़ आने की कोशिश कर रहा था और हवस की मारी समीना उसे रोक भी नहीं सकी। उसकी टाँगें खुद-ब-खुद ही खुल गयीं और टॉमी की ज़ुबान समीना के जिस्म के सबसे नाज़ुक और सबसे खास और सब से प्राइवेट हिस्से उसकी चूत की तरफ़ बढ़ने लगी। जैसे ही टॉमी की ज़ुबान ने एक बार में ही समीना की फूल जैसी खुली हुई चूत को पूरे का पूरा चाटा तो समीना का तो पूरे का पूरा जिस्म ही अपनी जगह से उछल कर रह गया। उसने खुद को गिरने से बचाने के लिये टॉमी के मज़बूत जिस्म को जल्दी से दोनों हाथों से पकड़ लिया। अब टॉमी बिना किसी रोकटोक के समीना की चूत को चाट रहा था।

दो दिन के अंदर ही समीना जैसी इज़्ज़तदार और खूबसूरत औरत इस हद तक खुल चुकी हुई थी कि इस वक़्त वो बिल्कुल नंगी हो कर बैठी हुई अपने कुत्ते से अपनी चूत चटवा रही थी। इसमें इस बेचरी औरत का भी कोई क़सूर नहीं था। ये तो कमाल था टॉमी जैसे समझदार और तजुर्बेकार कुत्ते का जो अपनी हरकतों और अपनी ज़ुबान के साथ किसी भी औरत को मदहोश करके अपने सामने बेबस कर देने में माहिर था। हक़ीकत में टॉमी कोई आम कुत्ता नहीं था। वो खास तौर से तरबियत-याफ़्ता था। अपने काम में माहिर था यानी उसे तरबियत ही ये दी गयी हुई थी कि एक औरत को कैसे गरम करना और कैसे उसे चोदना है। अपनी इसी खूबी और अपने काम में मुकम्मल महारत की वजह से ही टॉमी अपनी पुरानी मालकिन ज़हरा का पसंदीदा कुत्ता था जिससे चुदवा-चुदवा कर ज़हरा कभी भी बोर नहीं हुई थी। और आज समीना भी सिर्फ़ एक दिन की मुज़ाहमत के बाद ही टॉमी के सामने अपनी सारी मुज़ाहमत खतम कर बैठी हुई थी और इस वक़्त इस कुत्ते के सामने अपनी चूत खोल के बैठी इससे अपनी चूत चटवाती हुई मज़े ले रही थी। कुत्ता भी ऐसे मज़े ले-ले के समीना की चूत से बह कर निकलने वाले पानी को ऐसे चाट रहा था कि जैसे अंदर से कोई शहद निकल रहा हो जिसका वो एक क़तरा भी ज़ाया जाने नहीं देना चाहता हो।

टॉमी की खुरदरी, लंबी गुलाबी ज़ुबान इतनी बुरी तरह से समीना की चूत को चाट रही थी कि समीना के जिस्म से उसकी जान निकली जा रही थी। उसके मुँह से ज़ोर दार सिसकरियाँ निकल रही थीं जोकि पूरे कमरे में फैल रही थीं। शराब के नशे और कुत्ते की ज़ुबान के चाटने की मस्ती में चूर समीना के लिये सोफ़े की कुर्सी पर टिक कर बैठना और अपना तवज़ुन बरकरार रखना बहोत मुश्किल हो रहा था क्योंकि उसके चूतड़ फिसल कर आगे किनारे पे टिके हुए थे और सोफ़े की कुर्सी भी बिना हथों वाली थी। मगर फ़िर भी वो किसी ना किसी तरह टॉमी को पकड़ कर अपने थरथराते हुए जिस्म को सहारा देने की कोशिश कर रही थी। अचानक टॉमी की लंबी ज़ुबान फिसल कर समीना की चूत के सुराख के अंदर चली गयी... सिर्फ़ एक लम्हे के लिये। मगर वो लम्हा तो जैसे कोई करंट सा लग गया समीना के जिस्म में और समीना का पूरे का पूरा जिस्म अपनी जगह से उछल पड़ा और अगले ही लम्हे समीना नीचे कार्पेट पे गिरी हुई थी। उसने नीचे कार्पेट से उठने की कोई कोशिश नहीं की और ना ही टॉमी ने उसे उठने का कईं मौका दिया। वो जल्दी से अपनी जगह से घूम कर एक बार फ़िर से समीना की चूत की तरफ़ आ गया और समीना की रानों को चाटने लगा। समीना ने भी फौरन अपनी टाँगों को खोलते हुए टॉमी को दोबारा अपनी चूत की तरफ़ मुतवज्जह कर लिया था। अब तो जैसे टॉमी चाहता था... जो चाहता था... समीना के साथ वो ही कर रहा था और समीना भी बिल्कुल वैसा ही कर रही थी... बिना कोई मुज़ाहमत किये... बिना कोई इंकार किये। समिना!

मुज़ाहमत और इंकार... ये तो वहाँ होते हैं ना जहाँ इंसान को मज़ा नहीं आ रहा हो जबकि यहाँ... यहाँ तो समीना को इस सब में पूरा-पूरा मज़ा आ रहा था। टॉमी की ज़ुबान समीना की चूत पर चल रही थी और उसके पूरे जिस्म को जला रही थी उसमें पैदा होने वाली आग के साथ। समीना तो अपनी रानों को पूरा खोले हुए टॉमी के आगे पड़ी हुई थी और वो उसकी दोनों टाँगों के बीच में खड़ा... अपना सिर झुकाये... अपना मुँह समीना की चूत पर रखे हुए... अपनी लंबी ज़ुबान के साथ समीना की चूत को चाटता जा रहा था। टॉमी की लंबी ज़ुबान तेज़ी के साथ चल रही थी। कभी वो उसकी पूरी की पूरी चूत को अपनी ज़ुबान से एक साथ ही चाटने लगता और कभी उसकी चूत के ऊपरी हिस्से पर अपनी पूरी तवज्जो लगा देता। समीना की चूत के दोनों लबों के दर्मियान... बिल्कुल ऊपर के हिस्से में उसकी चूत का दाना... टॉमी की बेरहम खुरदरी ज़ुबान के रहम-ओ-करम पर था... जिसे टॉमी की ज़ुबान मुसलसल रगड़ रही थी... चाट रही थी और कुछ ही देर पहले तक टॉमी को रोकने का इरादा करने वाली समीना अब अपनी आँखें बंद किये हुए उसके सामने सिर्फ सैंडल पहने बिल्कुल नंगी पड़ी हुई थी... तड़प रही थी... सिसक रही थी। मगर ये तड़प और सिसक किसी तकलीफ या दर्द के मारे नहीं थी बल्कि लज़्ज़त की वजह से थी और उसके मुँह से निकलने वाली तेज़ सिसकारियाँ पूरे कमरे में गूँज रही थीं। उसके दोनों हाथ टॉमी के सिर पर थे... उसे अपने से दूर करने के लिये नहीं बल्कि उसके मुँह को और भी अपनी तरफ़ खींचने के लिये।

कुछ ही देर में समीना ने अपनी दोनों टाँगें उठायीं और उनको टॉमी की कमर के ऊपर रखते हुए उसके हेवानी जिस्म को अपनी गोरी-गोरी नाज़ुक और सैक्सी टाँगों के बीच में दबाने लगी ताकि वो कहीं भाग ना जाये। समीना अपने सैंडल के तलवों और गोरे-गोरे पैरों के ऊपरी हिस्से के साथ टॉमी की नरम-नरम फ़र को सहला रही थी। उसके पैर उसकी पूरी कमर पर सरक रहे थे और कभी वहाँ से नीचे उसकी टाँगों को सहलाने लगती... कुछ भी ना सोचते हुए... बस आँखें बंद किये हुए। अपनी चूत पर उसकी ज़ुबान के मज़े लेते हुए उस जानवर के जिस्म को अपने पैरों से सहलाना उसे अच्छा लग रहा था। टॉमी के जिस्म और उसकी टाँगों को अपने सैंडल और पैरों के साथ सहलाते हुए पता नहीं कब और कैसे उसका पैर नीचे जाने लगा... टॉमी के पेट के नीचे की तरफ़ और ऐसे ही उसका पैर किसी सख्त सी चीज़ से टकराया... जिसकी समीना को फौरी तौर पे कुछ समझ नहीं आयी। वो उसे भी उसकी टाँग की कोई हड्डी ही समझी... सख्त सी लंबी सी।

आँखें बंद थीं समीना की मगर दिमाग जैसे किसी नशे से बाहर आ रहा था और अपने पैरों के साथ इस चीज़ को जाँचने की कोशिश कर रहा था। जानने की कोशिश में था कि ये क्या है जो उसके पैरों के साथ टकरा रहा है। दोनों पैर अब उसके दिमाग की मदद कर रहे थे... इस चीज़ को कोई नाम देने के लिये और फ़िर समीना के दिमाग में एक छनका सा हुआ... लंड... लौड़ा... लन्न... एक साथ ही इस चीज़ के कईं नाम उसके दिमाग में आये और अचानक से ही उसके दोनों पैर इस चीज़ से दूर हट गये। मगर टॉमी की ज़ुबान की उसकी चूत पर रगड़ और चूत से बहते हुए चिकने पानी ने उसे सब कुछ एक बार फ़िर से भूलने पर मजबूर कर दिया और वो फ़िर से सिसकने लगी। थोड़ी ही देर में उसका पैर एक बार फ़िर से टॉमी के पेट के नीचे उसके लंड की तरफ़ बढ़ा और अगले ही लम्हे उसके पैरों ने एक बार फ़िर से टॉमी के लंड को छूना शुरू कर दिया... आहिस्ता-आहिस्ता... टॉमी को डिस्टर्ब किये बिना। फ़िर वो आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के लंड को अपने दोनों पैरों के बीच में ले कर... एक सैंडल के तलवे से दूसरे पैर के ऊपर दबाते हुए... सहलाने लगी। टॉमी की ज़ुबान के लम्स के साथ ही वो अपनी मंज़िल को पहुँच रही थी। उसकी चूत के अंदर गर्मी बढ़ती जा रही थी और वो पानी छोड़ने वाली थी।

अगले ही लम्हे समीना ने मज़बूती से टॉमी के सिर को अपने हाथों से जकड़ लिया और फ़िर उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया। चंद लम्हों में ही समीना का जिस्म ढीला पड़ने लगा। उसकी साँसों की रफ़्तार तेज़ हो गयी। वो लंबे-लंबे साँस लेती हुई अब खुद को नॉर्मल कर रही थी और टॉमी अपनी ज़ुबान के साथ समीना की चूत से निकलने वाला गाढ़ा-गाढ़ा पानी चाटता जा रहा था। चूत का पानी निकलने के बाद समीना ने टॉमी को खुद से आहिस्ता से पीछे को ढकेला और इस बार टॉमी उसको छोड़ कर उससे दूर हो गया... मगर उसके सिर की तरफ़... उसके हाथों की पहोंच में ही उसके करीब बैठ कर हाँफने लगा। उसका जिस्म भी हिल रहा था और ज़ुबान भी बाहर लटक रही थी। समीना उसी की तरफ़ देख रही थी... बड़े ही प्यार से... बड़ी ही चाहत से... क्योंकि आज जिस कदर इस जानवर ने उसे मज़ा दिया था वो उसे कभी पहले नहीं आया था और इस मज़े के लिये वो दिल से टॉमी की शुक्र गुज़ार थी। वहाँ क़लीन पर से उठने को उसका दिल भी नहीं कर रहा था... चेहरे पर सुकून ही सुकून था... और एक मुस्कान...!

समीना का बेडरूम अजीब मंज़र पेश कर रहा था। समीना जैसी खूबसूरत औरत अपने खूबसूरत जिस्म के साथ बिल्कुल नंगी... सिर्फ़ ऊँची पेन्सिल हील की सैंडल पहने अपने कमरे के कार्पेट पर पड़ी हुई थी और उसका वफ़ादार कुत्ता उसके करीब ही बैठा हुआ था। चूत का पानी निकलने के बाद समीना ने अपना सिर घुमा के टॉमी की तरफ़ देखा और फ़िर मुस्कुरा के अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसके मुँह को सहलाने लगी। कुत्ता भी अपनी मालकिन की तरफ़ से अपने काम को... अपनी करकरदगी को पसंद किये जाने पर खुश हो रहा था। समीना आहिस्ता-आहिस्ता उसके सिर को सहला रही थी। समीना मुस्कुराते हुए उसको देखते हुए अपनी उंगली को उसके नोकीले दाँतों पर फिराने लगी। उसे थोड़ा अजीब लग रहा था मगर उसे ये भी पता था... ये भी एहसास था कि उसके उन दाँतों ने उसे किस तरह मज़ा दिया था... उसके मम्मों को काटते हुए।

टॉमी के मुँह पर से समीना का हाथ उसकी गर्दन पर आ गया और फिर उसके पेट को सहलाने लगी। जब समीना की नज़र टॉमी की खुली और फ़ैली हुई टाँगों पर पड़ी... और उसे वहाँ वो ही चीज़ नज़र आयी जिसे वो थोड़ी देर पहले अपने पांव और सैंडल से सहला रही थी। समीना की नज़र उसी पर जम कर रह गयी... टॉमी के लंड पर! वो उसे देखे जा रही थी... बिना किसी और तरफ़ देखे... बिना अपनी पलकें झपकाये। वो सुर्ख रंग का लंबा सा... चमकता हुआ किसी हड्डी की तरह ही लग रहा था। मगर इस वक़्त बहोत ज्यादा अकड़ा हुआ नहीं था फ़िर भी काफ़ी लंबा लग रहा था। करीब-करीब आठ इंच तो होगा वो इस वक़्त भी। आगे से बिल्कुल पतला सा नोकदार और पीछे को जाते हुए मोटा होता जाता था... फैलता जाता था। उसके लंड के अगले सुराख में से भी हल्का-हल्का पानी रिस रहा था। समीना का हाथ अभी भी टॉमी के जिस्म पर था और उसकी पसलियों को सहला रहा था। समीना का हाथ आहिस्ता-आहिस्ता आगे को सरकने लगा... टॉमी के लंड की तरफ़! उसका दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था। वो खुद को रोकना चाह रही थी मगर उसका जिस्म उसके काबू में नहीं था। हाथ आहिस्ता-आहिस्ता सरकता हुआ आगे को बढ़ रहा था। चंद लम्हों में ही समीना का हाथ टॉमी के लंड के करीब पहुँच चुका हुआ था। अपने धड़कते हुए दिल के साथ समीना ने अपनी उंगली से उसके लंड की नोक को छुआ और फ़ौरन ही अपना हाथ वापस खींच लिया... जैसे उसमें कोई करंट हो... या जैसे उसका लंड उसकी उंगली को काट लेगा... या उसे डंक मार देगा! मगर टॉमी के लंड में ज़रा सी हरकत पैदा होने के सिवा और कुछ भी नहीं हुआ। उसका लंड वैसे का वैसे ही उसकी रान के ऊपर पड़ा रहा।

कुछ ही देर के बाद समीना ने दोबारा से अपनी उंगली से टॉमी के लंड को छूना शुरू कर दिया। इस पोज़िशन में लेटे हुए समीना का हाथ बड़ी ही मुश्किल से टॉमी के लंड तक पहुँच रहा था। कुछ सोच कर समीना थोड़ा सी हरकत करते हुए टॉमी के जिस्म के निचले हिस्से की तरफ़ सरक गयी। अब उसकी उंगली बड़ी आसानी के साथ टॉमी के पूरे लंड पर सरक रही थी... उसे सहला रही थी। समीना ने टॉमी के चेहरे की तरफ़ देखा मगर उस जानवर ने कौनसा कोई अपने चेहरे से तासुरात देने थे जो वो समीना की हरकत से खुशी का इज़हार करता। लेकिन एक बात की समीना को तसल्ली थी कि टॉमी कोई नापसंदीदगी भी नहीं दिखा रहा था और उसी की तरफ़ देखते हुए समीना के हाथ की पूरी उंगलियाँ उसके लंड के गिर्द लिपट गयीं। बहोत ही गरम... चिकना-चिकना और सख्त और लंबा और मज़बूत महसूस हो रहा था उसे टॉमी का लंड। समीना ने उसे अपने हाथ में ले कर आहिस्ता-आहिस्ता अपनी मुठ्ठी के अंदर ही उसे आगे पीछे करना शुरू कर दिया। टॉमी का लंड उसकी मुठ्ठी में आगे पीछे को सरक रहा था और उसके लंड के चिकनेपन से समीना का हाथ भी चिकना हो रहा था। उसके लंड को महसूस करती हुई वो उसका मवाज़ना इंसानी लंड के साथ भी कर रही थी यानी अपने शौहर के लंड के साथ और बिना किसी चीज़ को नापे वो आसानी से कह सकती थी कि टॉमी का लंड उसके शौहर के लंड से लंबा और मोटा है।

समीना के सहलाने से... उसकी मुठ मारने से... टॉमी को भी शायद मज़ा आने लगा था। वो पहले तो उसी तरह लेटा रहा मगर फ़िर अपनी जगह से उठ कर खड़ा हो गया। समीना अभी भी टॉमी के करीब नीचे कार्पेट पर ही लेटी हुई थी और अब टॉमी उसके सामने खड़ा था। मगर अब समीना को उससे कोई भी... किसी किस्म का भी खौफ़ महसूस नहीं हो रहा था। उसके अचानक उठ कर खड़ा होने से उसका लंड समीना के हाथ से निकल गया था मगर उसे अपनी जगह से कहीं आगे ना जाते हुए देख कर समीना ने एक बार फ़िर से उसका लंड पकड़ लिया और आहिस्ता-आहिस्ता उसे सहलाने लगी। टॉमी अगर अपने लंड को अभी भी समीना के हाथ में दिये रखना चाहता था तो समीना का दिल भी उसके लंड को अपने हाथ से छोड़ने को नहीं चाह रहा था। अब वो नीचे कार्पेट पर पड़ी हुई टॉमी के पेट के नीचे उसके फ़र में से खाल में हो रहे हुए सुराख में से निकालते हुए लंड को देख रही थी... उसे छू रही थी और अपने हाथ में ले कर एक बार फ़िर से उसे आगे-पीछे कर रही थी। टॉमी के लंड में से निकलने वाला कोई लेसदार सा मवाद... साफ़ ज़ाहिर है कि... टॉमी की मनी ही थी वो... निकल-निकल कर समीना के हाथ पर लग रही थी। मगर वो अपनी ही इस नयी दुनिया में मगन... उसे अपने हाथ आयी हुई ये नयी चीज़ अच्छी लग रही थी। समीना को महसूस हुआ कि अब टॉमी का लंड पहले की निस्बत अकड़ चुका हुआ है... और भी सख्त हो चुका है! समीना का हाथ उसके लंड पर पीछे को जाने लगा... उसकी जड़ तक... और पीछे उसे कुछ और ही चीज़ महसूस हुई... कुछ मोटी सी... गोल सी... बहोत बड़ी सी! समीना अब थोड़ा और भी टॉमी के लंड की तरफ़ सरक आयी। काफ़ी करीब पहुँच चुकी थी वो उसके लंड के और अब वो उसकी तरफ़ देखने लगी। ये टॉमी के लंड का आखिरी हिस्सा था जोकि किसी गेंद की तरह मोटा और फूला हुआ था... मुर्गी के अंडे के जितना मोटा और बड़ा। अब बहोत करीब से टॉमी का लंड देखने पर उसे और भी ये अजीब लग रहा था। लंबा सा मोटा सा हथियार था कुत्ते का जिस पर छोटी-छोटी रग़ें ही रग़ें थीं.... गहरे नीले रंग की! उन गहरी नीली रग़ों की तादाद इतनी ज्यादा थी उसके लंड पर कि उसके लंड का सुर्ख रंग अब जामुनी सा हो रहा था।

अपने हाथ में पकड़ कर टॉमी के सुर्ख लंड को सहलाते हुए समीना की नज़रों में वो तमाम फ़िल्में चल रही थीं जानवरों से चुदाई की जो उसने पहले देख रखी थीं। उसके दिमाग में घूम रहा था कि कैसे औरतें कुत्तों के लन्न मुँह में ले कर चूसती हैं... कैसे उसे अपनी ज़ुबान से चाटती हैं! पहले जब उसने ये सब देखा था तो उसे हैरत होती थी मगर अब इस वक़्त हक़ीक़त में एक कुत्ते का लंड अपने हाथ में पकड़ कर उसे सहलाते हुए उसका ज़हन कुछ बदल रहा था। अब उसे इतना अजीब नहीं लग रहा था। बल्कि उसका दिल चाह रहा था कि आज एक बार... सिर्फ़ एक बार... पहली और आखिरी बार... वो भी इस कुत्ते के लंड को अपनी ज़ुबान लगा कर चेक तो करे कि कैसा लगता है उसका ज़ायका! और क्या सच में कोई मज़ा भी आता है या कि नहीं! यही सोचते हुए बिल्कुल ग़ैर-इरादी तौर पर और ऐसे कि जैसे वो किसी जादू के ज़ैर असर हो... आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के लंड की तरफ़ बढ़ रही थी... बिल्कुल करीब! उसके होंठ टॉमी के लंड के बिल्कुल करीब पहुँच चुके थे। उसका अपना दिमाग बिल्कुल बंद हो चुका हुआ था। वो कुछ भी और नहीं सोच रही थी। बस उसे टॉमी का लंड ही नज़र आ रहा था। बिना सोचे समझे आखिरकार समीना ने अपने होंठों के साथ टॉमी के लंड को छू लिया... सिर्फ़ एक लम्हे के लिये... और फ़ौरन ही उसका मुँह पीछे हट गया। समीना को हैरत हुई कि उसे ये बुरा नहीं लगा था। डरते-डरते समीना ने टॉमी की तरफ़ देखा... फ़िर अपने इर्द गिर्द एक नज़र दौड़ायी... ये देखने के लिये कि कोई उसे देख तो नहीं रहा। फ़िर अपनी तसल्ली करने के बाद उसने दोबारा अपने होंठ टॉमी के लंड की तरफ़ बढ़ाये और एक बार फ़िर उसके लंड को अपने होंठों से छुआ। अपना हाथ पीछे के हिस्से में ले जा कर समीना ने उसके लंड के मोटे गोल हिस्से के पीछे से टॉमी के लंड को अपने हाथ की गिरफ़्त में लिया और अपने होंठों को जोड़ कर उसके लंड पर लंबाई के रुख फिराने लगी। अजीब सा मज़ा आने लगा था समीना को। वो अपने होंठों से जैसे उसके लंड को सहला रही थी... चूस रही थी!

कुछ देर तक ऐसे ही अपने होंठों के साथ टॉमी के लंड को सहलाने के बाद समीना का खौफ़ और झिझक खतम हो रही थी। उसे जैसे-जैसे ये सब अच्छा लग रहा था... वो वैस- वैसे ही खुलती जा रही थी। साथ ही उसके होंठ भी खुले और उसकी ज़ुबान बाहर निकली और उसने अपनी ज़ुबान की नोक के साथ टॉमी के लंड को सहलाना शुरू कर दिया। वो उसके लंड पर अपनी ज़ुबान आहिस्ता-आहिस्ता फिराने लगी... उसकी नोक से ले कर उसकी पीछे की मोटी गोलाई तक। समीना अब अपनी ज़ुबान फिराती हुई उसके लंड को महसूस कर रही थी। कुछ अजीब सी चीज़ लग रही थी... नयी सी... जमाल के लंड से मुखतलीफ़... अजीब सा मगर अच्छा! समीना ने अपनी ज़ुबान को टॉमी के लंड की नोक पर रखा और उसे अपनी ज़ुबान से चाटने लगी। समीना को हैरत हुई कि उसमें से वक्फ़े-वक्फ़े से थोड़ा-थोड़ा पानी निकल रहा था... हल्की सी धार की सूरत में और एक बार तो जब समीना की ज़ुबान उसकी नोक पर थी तो वो ही पानी उसकी ज़ुबान पर आ गया। समीना ने फ़ौरन अपन मुँह पीछे हटा लिया मगर ज़ुबान पर उसका ज़ायका रह गया। तभी समीना को लगा... एहसास हुआ कि उसका ज़ायका कुछ इतना भी बुरा नहीं है। समीना ने अब एक बार फ़िर अपनी ज़ुबान से उसके लंड को चाटना शुरू कर दिया और फ़िर पीछे अपनी ज़ुबान ले जा कर उसकी मोटी गेंद को चाटा। समीना ने एक बार फ़िर हिम्मत करके उसके लंड की टोपी को अपने होंठों के बीच में लिया और उसे चूसने लगी... आँखें बंद करके... कुछ भी ना सोचते हुए... मगर उसके लंड से निकलने वाले पानी को कबूल करते हुए!

फ़िर टॉमी के लंड से उसका हल्का-हल्का पानी निकल कर समीना के मुँह के अंदर गिरने लगा मगर इस बार समीना ने उसके लंड को अपने मुँह से बाहर नहीं निकाला और उसे चूसने लगी। उसके लंड का पानी निकल-निकल कर समीना के मुँह के अंदर गिरने लगा। कुछ अजीब सा ज़ायका लग रहा था उसे... मर्द के लंड से मुखतलीफ़! गाढ़ा पानी नहीं था मर्द की तरह बल्कि पतला-पतला सा था... नमकीन सा... कसैला सा... जोकि अब समीना के हलक़ से नीचे उतर रहा था... उसके गले में से होता हुआ उसके पेट के अंदर। समीना को ये ज़रा भी बुरा नहीं लग रहा था। वो अब अपने हाथों और घुटनों के बल झुकी हुई थी और टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ कर उसे अपनी ज़ुबान से चाट रही थी और कभी उसे मुँह के अंदर लेती और चूसने लगती। सब कुछ भूलभाल कर समीना अब सिर्फ़ मज़ा ले रही थी। खुद को पूरी तरह से अपने कुत्ते के साथ मस्त कर चुकी हुई थी... जानवर और इंसान का फ़र्क़ खतम कर चुकी थी और उसके लंड को चूसती चली जा रही थी।

टॉमी ने अपनी जगह से हरकत करते हुए अपना लंड समीना के हाथ में से छुड़वाया और घूम कर समीना के पीछे आ गया और समीना की गोरी-गोरी गाँड को चाटने लगा। उसकी ज़ुबान समीना की गाँड के बीच में घुसती हुई उसकी चूत तक पहुँच रही थी। और जैसे ही एक बार फ़िर से टॉमी की ज़ुबान समीना की चूत से टकराने लगी तो समीना की चूत की आग एक बार फ़िर से भड़कने लगी। टॉमी अब पूरी तरह से मुथर्रक हो चुका हुआ था। कभी वो समीना की चूत को चाटता तो कभी उसकी गाँड को चाटने लगता। इधर समीना का भी बुरा हाल हो रहा था लज़्ज़त के मारे। वो अपनी कोहनियाँ ज़मीन पर टिका कर अपना सिर अपने हाथों पर रखे अपनी गाँड को और भी ऊपर के उठा कर नीचे झुकी हुई थी। टॉमी उसकी चूत को चाट रहा था और समीना मुँह से निकलने वाली सिसकारियों से पूरा कमरा गूँज रहा था। लेखक: पिंकबेबी

अचानक टॉमी ने एक छलांग लगायी और अपनी दोनों अगली टाँगें समीना की कमर पर रख कर उसके ऊपर चढ़ गया। उसके अगले दोनों पांव समीना की कमर पर थे और पीछे से उसने अपने लंड को समीना की गाँड से टकराना शुरू कर दिया। समीना समझ गयी कि वो अब अपना लंड उसकी चूत में दाखिल करना चाहता है। वो घबरा गयी। ऐसा तो उसने नहीं सोचा था। इस हद तक जाना उसके प्रोग्राम में शामिल नहीं था। वो तो बस अपनी चूत चटवाने तक का मज़ा चाहती थी। मगर अब तो शायद बात उसके कंट्रोल से निकल रही थी। टॉमी उसके ऊपर चढ़ कर उसको चोदने की तैयारी में था। समीना घबरा गयी। उसने जल्दी से उठ कर अपनी जगह से खड़ी होना चाहा मगर टॉमी ने अपना पूरा वज़न समीना की कमर पर डाल दिया और अपने अगले पैरों की गिरफ़्त उसके कंधों पर और मज़बूत कर दी। और पीछे से अपना लंड और भी तेज़ी के साथ उसकी गाँड की दरार में मारने लगा... उसे समीना की चूत में दाखिल करने के लिये। समीना अब काफ़ी खौफ़ज़दा थी मगर कुछ और भी तो अजीब हो रहा था। वो ये कि जब-जब टॉमी का लंड समीना की चूत से टकराता तो उसे अलग ही मज़ा मिलता... उसे अलग ही दुनिया की सैर करवाता।

एक तरफ़ तो समीना को अच्छा लग रहा था। उसका दिल चाह रहा था कि वो खुद टॉमी का लंड अपनी चूत में ले ले... ये सोच कर कि अगर इतना मज़ा सिर्फ़ लंड के बाहर से उसकी चूत से टकराने से मिल रहा है तो अगर ये लंड चूत के अंदर चला जायेगा तो फ़िर उसे कितना मज़ा देगा। मगर दूसरे ही लम्हे उसे कुछ और खयाल आने लगता... अपनी हैसियत का... अपने एक इंसान... एक औरत होने का... और ये कि वो तो एक जानवर है... कुत्ता है... तो वो कैसे एक कुत्ते का लंड अपनी चूत के अंदर डलवा कर खुद को उससे चुदवा सकती है। कैसे एक कुत्ते के सामने कुत्तिया बन कर खड़ी हो सकती है... कैसे एक कुत्ते को खुद को चोदने की इजाज़त दे सकती... कैसे एक कुत्ते को इजाज़त दे सकती है कि वो उसे अपनी कुत्तिया समझ कर चोद डाले! ये सोच कर उसने एक बार फ़िर से खुद को अपनी उस पोज़िशन से... कुत्तिया की पोज़िशन से... खड़ा करने का इरादा किया... एक कोशिश की... मगर... मगर अब तो सब कुछ उसके बस से बाहर था। वो तो अब अपने टॉमी की... एक कुत्ते की गुलामी में थी... उसके नीचे... और वो कुत्ता अपना लंड उसकी चूत के अंदर डालने की कोशिश में था।

जैसे ही टॉमी ने महसूस किया कि समीना एक बार फ़िर से उसके नीचे से निकलने के लिये ज़ोर लगा रही है... उसे अपनी चूत दिये बिना उसके नीचे से निकलना चाहती है... तो उसने अपनी गिरफ़्त उसके जिस्म पर और भी सख्त कर दी और फ़िर अपना आखिरी हरबा भी आज़मा लिया। उसने अपना मुँह खोल कर समीना की गर्दन को अपने नोकीले लंबे-लंबे खौफ़नाक दाँतों के बीच में ले लिया और उसकी गर्दन पर अपने दाँतों का दबाव बढ़ाने लगा। जैसे ही समीना को अपनी गर्दन के गोश्त में टॉमी के दाँत घुसते हुए महसूस हुए तो वो खौफ़ के मारे अपनी जगह पर साकीत हो गयी कि कहीं टॉमी सच में ही उसकी गर्दन को ना काट ले। जैसे ही समीना ने अपनी हरकत बंद की तो ये एक लम्हा टॉमी के लिये काफ़ी था। उसने दोबारा से समीना की चूत पर हमला शुरू कर दिया। उसका लंड अब समीना की चूत के सुराख से टकरा रहा था और आखिर ऐसे ही एक ज़ोरदार धक्के के साथ टॉमी का मोटा लंड समीना की चूत की गहराइयों में उतर गया। और उसके साथ ही कमरे में समीना की एक दर्द भरी... बहोत ही तेज़ चींख गूँज गयी। समीना ने दोबारा से टॉमी की गिरफ़्त से निकलने की कोशिश की मगर फ़ौरन ही उसे अपनी गर्दन में कील से घुसते हुए महसूस हुए और वो मज़ीद नहीं हिल सकी।

इधर पीछे से अब टॉमी का लंड पूरे का पूरा समीना की चूत के अंदर जा रहा था। समीना के कंधों को पकड़े हुए वो दनादन घस्से मार रहा था... समीना की चूत को चोद रहा था। उसका लंबा लंड बहोत गहरायी तक जा रहा था समीना की चूत के अंदर। समीना बिल्कुल बेबस हो चुकी हुई थी। वो चाहते हुए भी हिल नहीं पा रही थी। एक बात जो समीना को अजीब लग रही थी वो ये थी के टॉमी के धक्के मारने का अंदाज़ ऐसा था कि जैसे कोई मशीन चल रही हुई हो। इतनी तेज़ी के साथ टॉमी का लंड समीना की चूत के अंदर बाहर हो रहा था कि समीना को यक़ीन नहीं हो रहा था। मगर उसे अब ये बात भी कबूल करने में कोई शरम महसूस नहीं हो रही थी कि उसे भी टॉमी के लंड से चुदाई में मज़ा आना शुरू हो रहा था। समीना ने अब अपनी मुज़ाहमत बिल्कुल खतम कर दी हुई थी और दोबारा से कार्पेट पर अपने हाथों के ऊपर अपना सिर रख कर अपनी गाँड को और भी हवा में ऊपर को उठाती हुई अपनी गाँड को पीछे को धकेल रही थी। समीना की आँखें बंद हो रही थीं और चूत थी कि बस पानी ही छोड़ती जा रही थी। तेज़ रफ़्तार के साथ धक्के मारते हुए टॉमी का लंड समीना की चूत में से निकल गया। समीना ने फ़ौरन ही अपना हाथ पीछे अपनी रानों के बीच में ले जा कर टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ा और उसकी नोक को दोबारा से अपनी चूत के सुराख पर टिका दिया और अगले ही लम्हे टॉमी का लंड एक बार फ़िर से समीना की चूत में उतर चुका था... और फ़िर से उसकी चूत की धुनाई शुरू हो चुकी थी!

लंड अंदर जाने के बाद से समीना की चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी मगर टॉमी अभी तक लगा हुआ था। समीना निढाल होती जा रही थी। अचानक ही टॉमी ने एक ज़ोरदार धक्का मारा और फ़िर एकदम से साकीत हो गया मगर इस आखिरी धक्के के साथ ही समीना की एक बार फ़िर से चींख निकल गयी थी। उसे अपनी चूत फटती हुई महसूस हुई... जैसे कोई बहोत बड़ी चीज़ उसकी चूत में किसी ने डाल दी हो... गोल सी... मोटी सी! तभी समीना को खयाल आया के शायद टॉमी ने अपने लंड का आखिरी मोटा गोल हिस्सा भी उसकी चूत के अंदर फ़ंसा दिया है। लेकिन अब टॉमी कोई हरकत नहीं कर रहा था... बस समीना के ऊपर बिल्कुल आराम से खड़ा था... और समीना को अपनी चूत के अंदर टॉमी के लंड से उसकी गरम-गरम मनी गिरते हुई महसूस हो रही थी... और उसकी मनी की गर्मी से समीना की चूत ने एक बार फ़िर से पानी छोड़ दिया और वो सिर नीचे रखे-रखे लंबे-लंबे साँस लेने लगी।

अब समीना को लगा कि अपना पानी निकालने के बाद टॉमी भी अपना लंड उसकी चूत से निकाल लेगा मगर काफ़ी देर तक भी टॉमी ने अपना लंड बाहर नहीं निकाला तो समीना को परेशानी होने लगी। उसने खुद को हरकत दी और उसे नीचे उतरने को बोला मगर टॉमी अपनी जगह पर खड़ा था। अचानक टॉमी ने अपनी अगली टाँगें समीना के ऊपर से उतारीं और एक तरफ़ को घूम गया और साथ ही समीना की चींखें निकल गयीं। अब टॉमी अपने लंड और पीछे की गोलाई को पूरे का पूरा समीना की चूत में घुमाता हुआ अपना रुख मोड़ चुका था। अब समीना की गाँड टॉमी की गाँड के साथ लगी हुई थी। समीना ने खुद को आगे खींचते हुए उसका लंड अपनी चूत से निकालना चाहा मगर इस क़दर तकलीफ हुई के वो वहीं रुक गयी।

अचानक ही टॉमी ने आगे को चलना शुरू कर दिया। समीना का हैरत से बुरा हाल होने लगा... उसे फ़िक्र होने लगी। कुत्ता अब उसके कमरे से बाहर को जा रहा था और अपनी चूत में फंसे हुए टॉमी के लंड के साथ समीना भी उसके पीछे-पीछे खिंचने पर मजबूर थी। वो उल्टे क़दमों अपने घुटनों और हाथों पर टॉमी के पीछे-पीछे रेंग रही थी। समीना कराहते हुए बोली, टॉमी...! टॉमी...! प्लिज़ज़ज़ स्टॉप! रुक जाओ...!

मगर टॉमी कहाँ सुन रहा था। वो तो उसे घसीटता हुआ लाऊँज में ले आया था और अब बीच लाऊँज में खड़ा हुआ हाँफ रहा था। इतने में दरवाज़े पर दस्तक हुई। समीना तो खौफ़ के मारे सुन्न हो कर रह गयी। वो ये सोच-सोच कर ही मरी जा रही थी कि अगर किसी ने उसे इस तरह कुत्ते के साथ देख लिया तो वो तो कभी किसी को मुँह दिखाने के काबिल ही नहीं रहेगी। उसके मुँह से कोई लफ़्ज़ नहीं निकल रहा था। उसने एक बार फ़िर से कोशिश की कि टॉमी का लंड उसकी चूत से बाहर निकल आये मगर नहीं! बाहर से खानसामा की आवाज़ आयी, बीबी जी...! दरवाज़ा खोलें...! रात के लिये खाना बनाने का वक़्त हो गया है...!

समीना खौफ़ से भरी हुई आवाज़ में बोली, अभी थोड़ी देर के बाद आना... अभी नहीं! अभी मैं मसरूफ़ हूँ!

खानसामा जी मालकिन कह कर वापस चला गया। अब उसे क्या पता था कि उसकी मालकिन अंदर किस काम में मसरूफ़ है। उसे क्या मालूम था कि अंदर उसकी मालकिन अपने कुत्ते से चुद रही है। उसके जाने के बाद समीना ने कुछ सुकून का साँस लिया।

कोई पंद्रह मिनट के बाद टॉमी का लंड उसकी चूत से बाहर निकला। उसने फ़ौरन ही समीना की चूत को चाटना शुरू कर दिया। वो अपनी मनी और समीना की चूत के पानी को चाट कर साफ़ करने लगा और समीना नीचे सिर झुकाये एक कुत्तिया की तरह उसके सामने झुकी रही। और फ़िर उसने करवट ली और कार्पेट पर ही सीधी हो कर लेट गयी... टॉमी की तरफ़ देखती हुई... हैरानी और शरम से... और फ़िर अचानक ही उसकी ज़ोरदार हंसी छूट गयी। वो कहकहे लगा कर ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी... हाहाहाहा... हाहाहाहा!

नॉट बैड... एइकचूअली इट वाज़ वंडरफुल... फैन्टैस्टिक! समीना के मुँह से हंसी के बाद यही अल्फ़ाज़ निकले और फ़िर वो अपनी जगह से उठी और टॉमी के सिर को सहला कर अपने कमरे की तरफ़ चल पड़ी दोबारा से फ्रेश होने के लिये।

शाम को जमाल आया तो थोड़ी देर के लिये वो सैर करने के लिये निकल गया... टॉमी को भी साथ ले कर। समीना भी रोज़ उनके साथ जाती थी मगर आज उसका दिल नहीं किया क्योंकि वो कुछ कश-म-कश में थी कि ये सब क्या हुआ है। ये वो जानती थी के उसे मज़ा आया है... अच्छा लगा है... मगर ये बात उसके दिल में चुभ रही थी कि ये ठीक नहीं हुआ। उनके जाने के बाद वो लाऊँज में आयी और रेड-वाईन पीने लगी। वैसे तो वो और जमाल अक्सर शाम को खाने से पहले साथ में वाईन या कोई और शराब पीते थे लेकिन आज समीना ने जमाल का इंतज़ार नहीं किया क्योंकि आज उसे इसकी काफी ज़रूरत महसूस हो रही थी। वाईन पीते हुए उसकी नज़र एक कोने में लगे हुए टॉमी के बिस्तर की तरफ़ गयी। कुछ देर तक उसे देखती रही... वाईन पीती रही... और फ़िर उठ कर टॉमी के बिस्तर के पास आ गयी। चार फुट लंबाई का रुइ से भरा हुआ एक गद्दा था... बहोत ही नरम सा... जो कि टॉमी के बिस्तर के लिये इस्तेमाल किया जाता था। समीना उसके बिस्तर के करीब बैठ गयी और फ़िर अपना हाथ आहिस्ता-आहिस्ता टॉमी के बिस्तर पर फेरने लगी... उसे सहलाने लगी। उसे अच्छा लग रहा था। वो अपनी जगह से थोड़ा सा हिली और फ़िर टॉमी के बिस्तर पर बैठ गयी। उसे टॉमी के बिस्तर पर बैठना अच्छा लग रहा था। धीरे-धीरे उस पर हाथ फेरती हुई वो टॉमी के बिस्तर पर लेट गयी। समीना अपना चेहरा उस नरम-नरम बिस्तर पर फेरने लगी... अपनी नाक उस पर रगड़ने लगी। बिस्तर में से अजीब सी बू आ रही थी... जानवर के जिस्म की। मगर समीना को बुरी नहीं बल्कि अच्छी लग रही थी। वो बस अपना चेहरा उस पर रगड़ती जा रही थी। उसका दिल चाह रहा था कि वो अपना नंगा जिस्म उस पर सहलाये। समीना ने बिना कुछ सोचे अपनी शर्ट को नीचे से पकड़ कर ऊपर उठाया और एक ही लम्हे में अपने जिस्म से अलग कर दिया और फ़िर बाकी कपड़े भी उतार के नंगी हो कर कुत्ते के बिस्तर पर लेट गयी। वो अपना नंगा गोरा-गोरा चिकना-चिकना जिस्म उस नरम-नरम बिस्तर पर रगड़ने लगी। नरम-नरम रेशमी बिस्तर के नरम-नरम रेशमी जिस्म के साथ रगड़ने से उसे बहोत अच्छा लग रहा था। वो अब फ़िर से अपने गालों को इस बिस्तर से रगड़ रही थी... आँखें बंद किये हुए... जैसे वो इस कुत्ते को अपना सब कुछ तस्लीम कर चुकी हो... मान चुकी हो। कुछ देर में बेल हुई तो समीना जैसे होश में वापस आयी। जल्दी से उठ कर कपड़े पहने और ऊँची हील की सैंडल फर्श पर टकटकाती और मुस्कुराती हुई दरवाज़ा खोलने के लिये चली गयी।

फिर दोनों बैठ कर खाना खाने लगे। टॉमी भी हस्ब मामूल उनके साथ ही था। खाने के बाद दोनों लाऊँज में ही बैठे टीवी देख रहे थे और टॉमी भी समीना के पैरों में ही बैठा हुआ था। जमाल खान उससे दूर दूसरी तरफ़ था। समीना अपना सैंडल वाला पैर टॉमी के जिस्म पर फेर रही थी... कभी उसके सिर पर अपना सैंडल का चिकना तलवा फिराती और कभी उसके पेट को अपने पैर से सहलाने लगती। आहिस्ता-आहिस्ता उसका पैर खुद-ब-खुद ही टॉमी के पेट के नीचे की तरफ़ जाने लगा। जमाल खान अगर उसकी तरफ़ देखता भी तो उसे पता नहीं चलता कि वो क्या कर रही है। समीना ने अपना पांव टॉमी के लंड वाले हिस्से की तरफ़ बढ़ाना शुरू कर दिया. और फ़िर अपने सैंडल के अगले सिरे और पैरों की उंगलियों से उसके लंड को सहलाना शुरू कर दिया। टॉमी ने फ़ौरन अपना सिर ऊपर उठाया और समीना की तरफ़ देखने लगा। समीना के होंठों पर खेलने वाली मुस्कुराहट को देख कर उसने दोबारा से अपना सिर नीचे रख दिया। टॉमी का लंड जो कि अभी तक उसकी खाल के अंदर ही था... आहिस्ता-आहिस्ता उसकी खाल से बाहर निकलने लगा। कुछ ही देर में उसके सुर्ख-सुर्ख लंड की अगली नोक और अगला आधा हिस्सा उसकी खाल से बाहर थे और उसे देखते ही समीना खिल उठी। इस लंड को देखते हुए उसे याद आने लगा के कैसे इस लंड ने उसकी चूत के अंदर दाखिल हो कर उसे बेइंतेहा मज़ा दिया था... कैसे टॉमी अपने लंड को उसकी नाज़ुक सी चूत के अंदर-बाहर कर रहा था... कैसे वो दनादन धक्के मार रहा था। समीना कभी टॉमी के लंड को देखती और कभी उसके मुँह को। समीना को टॉमी पर कोई गुस्सा नहीं था बल्कि जो मज़ा और जो लज़्ज़त टॉमी ने उसे दी थी, उसके बाद तो वो उसकी दिवानी हो गयी थी। टॉमी के लिये उसकी मोहब्बत और चाहत बढ़ गयी थी और उसकी मोहब्बत का अंदाज़ भी बदल गया था। समीना के सैंडल और पैर कि उंगलियों का अगला सिरा टॉमी के चिकने-चिकने सुर्ख रंग के लंड को सहला रहे थे। समीना ने उसके लंड को अपने सैंडल और पैर की उंगलियों के बीच में लिया और अपने पैर को उसके लंड पर ऊपर से नीचे को सहलाने लगी... जैसे कि वो टॉमी के लंड कि मुठ मार रही हो। समिना!

टॉमी ने अपना सिर मोड़ कर अपने लंड कि तरफ़ देखा और फ़िर अपना मुँह समीना के दूसरे पैर पर रख दिया जो उसके करीब था और अपनी ज़ुबान से समीना के पांव और सैंडल को चाटने लगा। समीना को भी अच्छा लग रहा था। टॉमी ने अपना मुँह खोल कर समीना के गोरे-गोरे नाज़ुक पैर को सैंडल के साथ अपने दाँतों के अंदर लिया और उसे आहिस्ता-आहिस्ता दबाने लगा... काटने लगा। उसके नोकीले दाँत समीना के पैर में ऊपर और सैंडल के तलवे में धंस रहे थे और समीना को हल्का-हल्का लज़्ज़त अमेज़ दर्द होने लगा था। समीना के चेहरे पर लज़्ज़त के साये लहराने लगे थे। एक बार जब टॉमी ने थोड़ा ज़ोर से उसके पैर को अपने दाँतों से दबाया तो समीना के मुँह से सिसकारी निकल गयी। उसे सुन कर जमाल खान ने चौंक कर समीना की तरफ़ देखा तो उसे समीना का पैर टॉमी के मुँह के अंदर नज़र आया तो वो खौफ़ज़दा हो गया।

जमाल बोला, समीना...! समीना ...! ये क्या कर रहा है टॉमी...! हटाओ उसे!

समीना मुस्कुरायी, डोन्ट वरी डार्लिंग...! कुछ नहीं कहता टॉमी! ये तो बस लाड़ कर रहा है... जस्ट रिलैक्स डियर!

जमाल खान भी देखने लगा कि टॉमी बस उसके पैर को अपने दाँतों के अंदर लेता है और फ़िर अपने मुँह से उसका पैर निकाल कर उसे चाटने लगता है... जैसे कि वो उसके पैर से खेल रहा हो। जमाल को भी तसल्ली हो गयी... उसकी फ़िक्र खतम हो गयी। वो मुस्कुराया, अरे यार ये तो तुम्हारे पांव से खेल रहा है! समीना भी मुस्कुरा दी और जमाल दोबारा से टीवी देखने लगा।

इधर समीना का पैर टॉमी के लंड से पीछे को जाने लगा... उसकी रान को सहलाते हुए... उसकी दुम्म के नीचे। उसकी गाँड के सुराख के नीचे टॉमी के टट्टे लटके हुए नज़र आये... काले-काले से... गोल-गोल से! समीना ने एक नज़र जमाल खान की तरफ़ देखा और फ़िर अपने सैंडल और पैर के अंगूठे से उसके टट्टों को सहलाने लगी। अपने शौहर जमाल के मोटे-मोटे और बड़े-बड़े टट्टे तो वो सहला ही चुकी थी कईं बार मगर उन छोटे साइज़ के बॉल्स के साथ खेलना भी समीना को अच्छा लग रहा था। वो अपने पैर के साथ उनसे खेल रही थी। साथ-साथ ही वो सोचने लगी के उन टट्टों के अंदर बनने वाली मनी का ज़ायका भी वो ले चुकी हुई है और उसे ये मानने में कोई आर या शरम नहीं थी कि उसे टॉमी... अपने कुत्ते के लंड कि मनी अपने मुँह में बेहद अच्छी लगी थी... उसका ज़ायका उसे बहोत पसंद आया था।

इतने में जमाल खान के मोबाइल पर कोई कॉल आयी। वो उसे अटेंड करके सुनता हुआ लाऊँज से बाहर निकल गया... बाहर लॉन में! जमाल के जाते ही टॉमी ने अपनी जगह से उठ कर छलांग लगायी और सोफ़े पर चढ़ गया और समीना के चेहरे को चाटने लगा। समीना उसकी इस हरकत पर हंसने लगी। उसे इस बात की खुशी भी हुई थी और तसल्ली भी कि टॉमी ने उसके शौहर के सामने उसके साथ कुछ भी गलत करने की कोशिश नहीं की थी। टॉमी उसके गालों और होंठों को चाटने लगा। वो बार-बार अपनी ज़ुबान ऊपर-नीचे को लाता हुआ उसके चेहरे को चाटता और उसके होंठों को चाटता। समीना ने भी अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और अपनी ज़ुबान को टॉमी की ज़ुबान से टकराने लगी। समीना की ज़ुबान टॉमी की ज़ुबान से टकराने लगी... एक खूबसूरत औरत की ज़ुबान एक कुत्ते की ज़ुबान को चाट रही थी। दोनों ही एक दूसरे की ज़ुबानों को चाट रहे थे। कुत्ते के मुँह से उसका थूक समीना के मुँह के अंदर जा रहा था मगर समीना उसका कुछ भी बुरा समझे बिना अपने अंदर निगलती जा रही थी और टॉमी की ज़ुबान को चाटती जा रही थी... जैसे वो कोई जानवर नहीं बल्कि उसका महबूब हो और वो उसकी महबूबा... जैसे वो उसका बॉय फ्रेंड हो और वो उसकी गर्ल फ्रेंड... जैसे वो उसका आशिक़ हो और वो उसकी माशूक़ा... जैसे वो एक कुत्ता है तो... तो वो उसकी कुत्तिया! दोनों... बल्कि सिर्फ़ समीना... सब कुछ भूलभाल कर टॉमी को प्यार कर रही थी और फ़िर समीना ने टॉमी के जिस्म पर हाथ फेरते हुए उसे खुद से पीछे किया और सोफ़े से उतरने का इशारा किया। टॉमी खामोशी से सोफ़े पर से उतरा और कमरे के एक कोने में मौजूद अपने छोटे से बिस्तर पर चला गया... सोने के लिये!

रात को जमाल खान समीना के पास आया और इस रात उसने भी समीना को चोदा। मगर समीना महसूस कर रही थी कि उसे जो मज़ा आज टॉमी के लंड से चुदवाने में आया था वो उसे आज जमाल के साथ नहीं आ रहा था। वो अपने बिस्तर पर लेटी जमाल खान का लंड अपनी चूत में लेने के बावजूद भी आँखें बंद किये टॉमी का... एक कुत्ते का तसव्वुर ही कर रही थी कि वो उसे चोद रहा है और वो उस कुत्ते के लंड के मज़े ले रही है। टॉमी को ही याद करते हुए समीना की चूत ने पानी छोड़ा और फ़िर काफ़ी देर के बाद दोनों सो गये।

समीना अगले दिन एक बार फ़िर टॉमी के लंड का मज़ा लेने का सोचती हुई नींद की वादियों में चली गयी। उसे तसल्ली थी कि अब उसे अपनी तनहाइयों का साथी मिल चुका है... उसकी तनहाइयों को रंगीन करने के लिये। उसका दिल अभी भी यही चाह रहा था कि वो जा कर कुत्ते के साथ उसके नरम नरम बिस्तर पर लेट जाये... उसके साथ! मगर फ़िर खुद पर जबर करके सो ही गयी।

सुबह उसकी आँख फोन की बैल की आवाज़ से खुली। देखा तो ज़हरा का फोन था अमेरिका से। पहले भी ज़हरा उसे फोन करती रहती थी. .. . उसका हाल-अहवाल पूछने के लिये... और टॉमी के बारे में जनने के लिये। मगर आज ज़हरा से बात करते हुए समीना का दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था।

ज़हरा: हैलो. .. कैसी हो समीना...?

समीना: मैं ठीकठाक हूँ... और आप...???

ज़हरा: हम भी ठीक हैं... और वो अपने टॉमी का सुनाओ... वो कैसा है?

समीना: हाँ वो भी ठीक है... मगर उसने... समीना कुछ कहते कहते रुक गयी।

ज़हरा की हंसी की आवाज़ सुनायी दी, क्या हुआ... क्या किया है टॉमी ने?

समीना घबरा कर बोली, क...क...कुछ नहीं... कुछ भी तो नहीं...

ज़हरा की फ़िर आवाज़ आयी, कहीं इस टॉमी ने तुम को चोद तो नहीं दिया... हाहाहाहा!

समीना बुरी तरह से घबरा गयी हुई थी, नहीं... नहीं... वो भला क्यों मुझे...

ज़हरा हंसी, हाहाहाहा... वो मैं इसलिये कह रही थी कि... बड़ा ही कमीना है ये कुत्ता... ये तो यहाँ मुझे भी चोदता रहा है... इसलिये मैं तो कह रही थी...

समीना के मुँह से फ़ौरन ही निकला, क्या...? क्या आप को भी...???

ज़हरा हंसी, हाँ मुझे तो रोज़ ही चोदता था ये... चूत और गाँड दोनों मारता था मेरी... और अब उसका भाई अकेला... वैसे एक बात है कि मज़ा खूब आता है उससे चुदवाने में... क्यों है ना ऐसी बात?

समीना: हाँ... नहीं... मेरा मतलब है कि मुझे क्या पता...! समीना घबरा रही थी।

ज़हरा: अरे यार मुझसे छुपाने का कोई फ़ायदा नहीं है... बस करती रहो उसके साथ मज़े और इंजॉय करो खूब!

समीना: लेकिन....

ज़हरा: अरे लेकिन-वेकिन कुछ नहीं... बस मज़े लो... कुछ भी नहीं होगा... किसी को कुछ पता नहीं चलेगा...!!

समीना: ओके... बाय... फ़िर बात करेंगे!

समीना ने फोन बंद कर दिया। उसका दिल ज़ोर-ज़ोर से धड़क रहा था मगर ज़हरा से बातें करके और ये जान कर उसे काफ़ी सुकून मिला था कि वो अकेली नहीं है... किसी और ने भी टॉमी के साथ चुदाई की हुई है... और वो भी ज़हरा ने... जो इतने सालों से अमेरिका में जरूर रहती है लेकिन है तो उसी की तरह पाकिस्तानी ही... ये जान कर उसके चेहरे पर सुकून वाली मुस्कुराहट फैल गयी।

अब समीना का अंदाज़ ही कुछ अलग था। वो कुछ अलग ही सोच में थी। अपने शौहर जमाल के साथ नाश्ता करते हुए भी वो पास ही ज़मीन पर बैठे हुए टॉमी को देख-देख कर मुस्कुरा रही थी। जमाल अपने नाश्ते में मगन था और साथ-साथ अपनी हसीन-ओ-जमील बीवी से बातें भी कर रहा था। उस बेचारे को क्या पता था कि उसकी इतनी खूबसूरत बीवी एक कुत्ते से चुदवा रही है! कुछ ही देर में जमाल खान ने नाश्ता किया और अपने दफ़्तर चला गया। जमाल के जाते ही समीना ने घर का अंदर का दरवाज़ा लॉक किया। फिर लाऊँज में अलमारी में से शराब... वोडका की बोतल और एक गिलास लेकर अपने कमरे में आ गयी। इस वक़्त भी टॉमी दरवाजे के करीब ही खड़ा था... अंदर आने के लिये। मगर समीना ने मुस्कुरा कर उसे देखते हुए दरवाज़ा बंद कर लिया और कमरे का भी अंदर से लैच लगा लिया ताकि टॉमी अंदर ना सके। शायद आज वो अपने इस महबूब को कुछ तड़पाना चाहती थी। अंदर कमरे में आकर समीना ने अपने जिस्म पर पहना हुआ नाइट गाऊन उतार कर बेड पर फेंक दिया... सैंडल भी उतार दिये और नंगी... बिल्कुल नंगी हालत में शराब की बोतल और गिलास लेकर बाथरूम में घुस गयी। आलीशान बाथरूम में बड़ा सा बाथ-टब था। समीना ने उसमें पानी भरा और साबुन डाल कर झाग बना के बबल-बाथ तैयार किया और फिर उसमें बैठ कर गिलास में शराब भर कर के पीते हुए नहाने लगी। वैसे तो इतनी सुबह वो शराब नहीं पीती थी लेकिन आज वो नशे में मदहोश होकर.. मस्त होकर... अपने टॉमी... अपने कुत्ते... अपने महबूब... के साथ चुदाई का पूरा मज़ा लेना चाहती थी।

करीब आधे घंटे तक वो नहाती रही और इस दौरान उसने काफी शराब.. करीब आधी बोतल पी ली थी। जब वो बाथ-टब से बाहर निकली तो नशे की हालत में थी जो उसे बेहद खुशनुमा लग रहा था... काफी हल्का महसूस कर रही थी...। तौलिये से जिस्म सुखा कर वो बाथरूम से बाहर आयी और हस्ब-मामूल सबसे पहले पैरों में ऊँची पेंसिल हील के सैंडल पहने। फिर वैसे ही बिल्कुल नंगी आईने के सामने बैठ गयी और नशे की मस्ती में हल्का-हल्का गुनगुनाते हुए मेक-अप करने लगी... खुद को बनाने संवारने लगी। उसके दिल की हालत भी अजीब सी हो रही थी ये सोच-सोच कर कि वो... उस जैसी खूबसूरत और जवान औरत... एक कुत्ते को अपना महबूब मानती हुई उसके लिये तैयार हो रही है... उससे चुदने के लिये... उसको सुकून पहुँचाने के लिये... और उसके जिस्म से अपने जिस्म को सुकून देने के लिये! मगर ये सब कुछ सोचते हुए भी उसे बुरा नहीं लग रहा था बल्कि एक मुस्कुराहट थी जो उसके होंठों पर खेल रही थी। मेक-अप करके... अपने होंठों पर लिपस्टिक लगा कर तैयार हुई और खुद को आईने में देखने लग। अपनी तैयारी और अपनी खूबसूरती को देख कर वो खुद भी शरमा गयी... और फिर शोखी से मुस्कुराते हुए अपने निचले होंठ दाँतों में दबा लिये। लेखक: पिंकबेबी

अब मरहला था कपड़ों का। वो सोचने लगी कि क्या पहने। सोचते-सोचते उसे खयाल आया कि क्यों ना आज वो भी टॉमी के जैसे ही रहे... खुद को टॉमी के सामने उसी के जैसी ही बन कर पेश करे! ये सोचते ही उसने कुछ भी पहनने का इरादा तर्क़ कर दिया... सिर्फ़ पैरों में हस्ब-ए-आदत ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल जरूर पहने हुए थे। समीना अपने नंगे वजूद को आईने में देखने लगी। उसके खूबसूरत गोरे-गोरे मम्मे तने हुए थे... उनके आगे गुलाबी निप्पल अकड़े हुए क़यामत ढा रहे थे... चूत गोरी-गोरी... गुलाबी चूत... बालों से बिल्कुल पाक... हौले हौले रिस रही थी... चुदने के लिये पूरी तरह से तैयार थी... एक कुत्ते के लंड को अपने अंदर लेने के लिये बिल्कुल तैयार। खुद को आईने में देखते हुए उसे कुछ खयाल आया और उसके साथ ही उसके होंठों पर एक हल्की सी मुस्कुराहट फ़ैल गयी। वो आईने के सामने से उठी और एक तरफ़ बनी हुई अलमारी की तरफ़ बढ़ी। उसके सबसे निचले हिस्से में से कुछ निकाल कर वापस आईने के सामने आ गयी और उसे अपनी गोरी-गोरी गर्दन में पहनने लगी। उसके हुक बंद किये और खुद को दोबारा आईने में देखने लगी। टॉमी की गर्दन का पट्टा जो उसके गले से उतार दिया गया हुआ था... अब समीना के गले के गिर्द लिपटा हुआ था। समीना ने उसे अपनी गर्दन के गिर्द टाइट करके बाँध लिया हुआ था और अब खुद को इस पट्टे के साथ देख कर उसके चेहरे पर शरम और शरारत के मिलेजुले लाल-गुलाबी रंग फैल गये। पूरी की पूरी कुत्तिया लग रही हो अब तो तुम! समीना खुद से बोली और हंसने लगी। हाँ तो जब एक कुत्ते से प्यार करुँगी... इस से चुदवाऊँगी... तो कुत्तिया तो बनना ही पड़ेगा ना! समीना ने अपने सवाल का खुद ही जवाब दिया और फ़िर नशे में लहराती हुई कमरे से बाहर जाने के लिये बढ़ गयी। कुछ देर पहले आधी बोतल शराब पी चुकी हुई थी तो ज़ाहिर है काफी नशे में थी और चलते हुए क़दम भी डगमगा से रहे थे जिससे ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल में उसकी चाल वाक़य में नशीली हो गयी थी।

दरवाज़ा खोल कर समीना बाहर निकली और टीवी लाऊँज में इधर-उधर देखा... टॉमी को! टॉमी लाऊँज के कोने में रखे हुए अपने बिस्तर पर बैठा हुआ था। समीना ने मुस्कुरा कर उसे देखा। टॉमी ने भी बड़ी होशियारी का मुज़ाहिरा करते हुए उसे देख लिया था। अब अपनी जगह पर बैठे हुए उसकी नज़र समीना पर ही थी। समीना ने एक अजीब हरकत की... वो नीचे झुकी और कार्पेट पर अपने घुटनों और हाथों के बल हो गयी। फिर अपने घुटनों और हाथों के बल ही चलती हुई... नंगी ही चलती हुई... टॉमी के बिस्तर की तरफ़ बढ़ने लगी... टॉमी के... एक कुत्ते के बिस्तर की ज़ीनत बनने के लिये। समीना ने फ़ैसला कर लिया था कि अगर टॉमी एक जानवर हो कर उसे इस क़दर मज़ा दे रहा है तो वो भी उसी के जैसी हो कर एक जानवर की तरह... एक कुत्तिया की तरह... खुद को उसे पेश करेगी... अपना जिस्म उसे पेश करेगी और उसे पूरा-पूरा मज़ा देगी। इसी लिये वो गले में पट्टा डाले... बिल्कुल नंगी हालत में घुटनों के बल चलती हुई टॉमी के करीब जा रही थी।

टॉमी के पास जाकर वो टॉमी को प्यार भरी नज़रों से देखने लगी। वो भी अपनी जगह पर ही लेटा हुआ अपनी मालकिन को देख रहा था। समीना आगे बढ़ कर उसके गद्दे पर चढ़ गयी. और आगे झुक कर टॉमी के चेहरे के साथ अपना चेहरा रगड़ने लगी। उसने टॉमी के मुँह को चूमना शुरू कर दिया। फ़िर अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और उसके काले होंठों वाले हिस्से को चाटने लगी। टॉमी ने भी अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और समीना के मुँह को चाटने लगा। समीना को अपनायत का एहसास हुआ। उसने भी फ़ौरन अपनी ज़ुबान से टॉमी की ज़ुबान को चाटना शुरू कर दिया। दोनों की ज़ुबानें... समीना और टॉमी की ज़ुबानें... एक इंसान और एक जानवर की ज़ुबानें... एक खूबसूरत हसीन औरत और एक कुत्ते की ज़ुबान... एक दूसरे से टकरा रही थीं... एक दूसरे को चाट रही थीं। दोनों का थूक आपस में मिल रहा था। समीना ने दोनों हाथों में उसका मुँह पकड़ा हुआ था और अपनी ज़ुबान को उसकी ज़ुबान से टकरा रही थी... उसे चाट रही थी। फ़िर समीना ने आगे बढ़ कर अपना जिस्म टॉमी के जिस्म से लगा दिया। समीना का गोरा-गोरा चिकना नंगा जिस्म टॉमी की खाल के नरम-नरम फ़र से रगड़ने लगा। समीना को भी मज़ा आ रहा था... उसे अच्छा लग रहा था। वो अपने जिस्म को टॉमी के जिस्म के साथ घिसती हुई मज़ा लेने लगी। साथ-साथ ही अब उसने टॉमी के जिस्म को... उसकी खाल को चूमना शुरू कर दिया था। कभी उसकी कमर के ऊपर से और कभी पेट पर से तो कभी उसकी गर्दन पर से अपने होंठों को उस जानवर के जिस्म से रगड़ने में समीना को मज़ा आ रहा था। उसका हाथ भी टॉमी के जिस्म को सहला रहा था।

समीना टॉमी को अपनी जगह से खड़ा करना चाह रही थी ताकि वो उसे प्यार करे... उसे चोदे! मगर टॉमी अभी भी अपनी जगह पर ही बैठा हुआ था। समीना अपनी जगह से उठी और उसके गद्दे पर उसके आगे पीछे फिरने लगी। कभी उसके पीछे जाती तो कभी उसके सामने आ जाती... फ़िर अपनी खूबसूरत गाँड को उसके सामने लहराने लगती। मगर टॉमी अभी भी सुस्ती के साथ उसके सामने लेटा हुआ था। कभी-कभी जब समीना अपनी गाँड को टॉमी के मुँह के बिल्कुल साथ लगाती तो वो एक दो बार उसकी गाँड को चाट लेता अपनी ज़ुबान से और फ़िर से नीचे अपने सामने पड़े हुए बिस्किट खाने लगता। उसके सामने काफ़ी सारे बिस्किट पड़े हुए थे जो थोड़ी देर पहले समीना उसके लिये डाल के गयी थी। कुछ उनमें से टॉमी ने खा लिये हुए थे और कुछ आधे कुतरे हुए थे और कुछ मुँह से निकाले हुए थे। करीब ही एक खुले से बर्तन में टॉमी के लिये पानी पड़ा हुआ था। कुछ सोच कर समीना मुस्कुरायी और फ़िर नीचे को झुक कर टॉमी के आगे से बिस्किट अपने मुँह से उठा कर खाने लगी। टॉमी ने उसे देखा तो एक बिस्किट अपने मुँह में डाला और फ़िर उसे बाहर निकाल दिया। समीना ने फ़ौरन ही उसे अपने होंठों से अपने मुँह में लिया और टॉमी की तरफ़ देखती हुई खाने लगी... चबाने लगी। उसे बड़ा ही अजीब लग रहा था कि वो एक कुत्ते के मुँह से निकली हुई कोई चीज़ खुद खा रही है। आज से चंद दिन पहले तक तो वो ऐसा तसव्वुर भी नहीं कर सकती थी।

आखिर कुछ देर के बाद टॉमी अपनी जगह से उठा और गद्दे से नीचे पड़े हुए बड़े से बर्तन में डाले हुए पानी में मुँह मारने लगा। अपनी ज़ुबान अंदर डाल कर लिप-लिप करता हुआ पानी पीने लगा। समीना भी अपने घुटनों के बल फ़ौरन आगे बढ़ी और खुद भी अपना मुँह नीचे कर के उसी बर्तन में डाल दिया और अपनी ज़ुबान निकाल कर कुत्ते के बर्तन में से ही पानी पीने लगी। उसे खुद पे हंसी भी आ रही थी कि वो एक इंसान हो कर जानवर की तरह बर्तन में से पानी पी रही है और मालकिन होते हुए भी अपने कुत्ते के बर्तन में से उसका झूठा पानी पी रही है। कुत्ते की ज़ुबान से पानी में तो कुछ फ़र्क़ नहीं आया ना और जब हम अपनी झूठी चीज़ें उसे दे सकते हैं तो हमें उसका झूठा खाने में और पीने में क्या हर्ज़ है... और फ़िर एक दूसरे का झूठा खाने से ही तो आपस का प्यार बढ़ता है ना। समीना मुस्कुरायी। उसे अपनी इन ही बातों और हरकतों के साथ अपनी चूत भी गीली होती हुई महसूस हो रही थी। समीना ने अपनी एक उंगली नीचे ले जा कर अपनी चूत के अंदर डाली और अपनी चूत के अंदर बाहर किया तो उसे अपनी चूत का गाढ़ा पानी अपनी उंगली पर महसूस हुआ। समीना ने अपनी उंगली वापस ला कर अपने मुँह में डाल कर अपनी ही चूत का पानी चाट लिया। अब समीना दोबारा से घूम कर टॉमी के पीछे आयी और उसकी कमर को चूमने लगी। उसकी दुम्म के नीचे उसके गोल-गोल काले टट्टे लटक रहे थे। समीना ने अपने हाथों से उनको सहलाना शुरू कर दिया। टॉमी ने पानी को छोड़ कर मुड़ कर समीना की तरफ़ देखा और फ़िर से अपना मुँह आगे कर लिया। समिना!

समीना ने टॉमी की कमर को चूमा और फ़िर अपने होंठ टॉमी के काले-काले टट्टों पर रख कर उनको चूमने लगी। समीना ने अपनी गुलाबी ज़ुबान बाहर निकाली और उन काली-काली गेंदों को अपनी ज़ुबान से छेड़ने और उनको चाटने लगी। उसने अपने मुँह से उन पर थूक गिराया और अपनी ज़ुबान उन पर मलने लगी। फ़िर वो उनको बारी-बारी मुँह में ले कर चूसने लगी। बड़ा ही अच्छा लग रहा था उसे... उनको चाटना... उनको चूसना! अलग ही मज़ा आ रहा था समीना को। एक खूबसूरत हसीन औरत एक कुत्ते के पीछे झुकी हुई अपने गुलाबी-गुलाबी होंठों के साथ उस कुत्ते के काले-काले टट्टों को अपने मुँह में ले कर चूस रही थी और अपने मुँह के अंदर ही रखते हुए उन पर ज़ुबान भी फेर रही थी...जैसे पता नहीं कितनी मज़े की चीज़ उसके मुँह के अंदर हो। समीना की नज़र टॉमी के लंड पर पड़ी जो अब आहिस्ता-आहिस्ता उसकी खाल से बाहर निकल रहा था। समीना ने उसकी गोलियों को चूसते और चाटते हुए अपना हाथ आगे बढ़ा कर उसके लंड को पकड़ लिया और उसे अपनी मुठ्ठी में ले कर सहलने लगी... मुठ्ठी में ले आगे-पीछे करने लगी। अब टॉमी भी मस्ती में आ रहा था। समीना ने अब आगे को जा कर टॉमी का लंड अपने मुँह में लिया और उसे चूसने लगी... अपनी ज़ुबान से चाटने लगी... मुँह में ले कर अंदर-बाहर करने लगी... मज़े लेती हुई... इंजॉय करती हुई!

टॉमी भी अब पूरी मस्ती में आ चुका हुआ था। वो भी अपना लंड समीना के मुँह से चुसवा कर समीना के पीछे लपका और उसकी गाँड को चाटने लगा। समीना ने अपना सिर नीचे को किया और अपनी गाँड को ऊपर को उठाते हुए अपनी चूत को टॉमी के सामने कर दिया। टॉमी ने भी फ़ौरन उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया। उसकी ज़ुबान समीना की चूत के अंदर तक जा रही थी... नीचे से ऊपर तक चाट रही थी... और समीना आँखें बंद किये लज़्ज़त की वादियों में दौड़ रही थी। अचानक ही टॉमी ने समीना पर हमला किया और उसके ऊपर चढ़ कर घस्से मारने लगा। उसका अकड़ा हुआ लंड समीना की गाँड और उसकी रानों से रगड़ रहा था... घिस रहा था और समीना अब हंस रही थी टॉमी की हालत पे। थोड़ी देर पहले तक वो जो आराम से लेटा हुआ था... अब अपना लंड उसकी चूत में डालने के लिये बेचैन हो रहा था और समीना भी अपने कुत्ते के बिस्तर पर उससे चुदवाने के लिये पूरी तरह से राज़ी और तैयार थी। उसने अपना हाथ पीछे ले जाकर अपनी रानों के बीच में से टॉमी का लंड अपने हाथ में पकड़ा और उसे अपनी चूत के सुराख पर टिका दिया। वो खुद भी तो अब ज़्यादा देर बर्दाश्त नहीं कर सकती थी। जैसे ही उसने टॉमी का लंड अपनी चूत के सुराख पर रखा तो टॉमी ने एक ही धक्के के साथ ही अपना लंड समीना की चूत में दाखिल कर दिया और एक ज़ोरदार सिसकारी के साथ समीना तड़प कर रह गयी। उसने खुद को आगे को गिरने से संभाला और फ़िर अपनी गाँड को ऊपर को उठाती हुई अपनी चूत को पीछे को टॉमी के लंड की तरफ़ धकेलने लगी। टॉमी का लंड भी समीना की चूत में अंदर-बाहर होता हुआ उसे चोद रहा था। कुत्ते ने अपनी मालकिन को चोदना शुरू कर दिया था। उसे भी अब यकीन हो गया था कि उसकी मालकिन उसकी कुत्तिया है जिसे वो जैसे चाहे चोद सकता है। उसके धक्कों में तेज़ी आती जा रही थी और हर धक्के के साथ टॉमी का लंड समीना की चूत में गहराइयों तक जा रहा था। समीना हर हर धक्के के साथ कराहती हुई आगे को गिरने लगती जिससे टॉमी का लंड फिसल जाता। इस चीज़ को कंट्रोल करने के लिये टॉमी ने अपने अगले दोनों पैर समीना के कंधों पर रखे और अपना मुँह आगे ला कर समीना के गले में बंधा हुआ उसका पट्टा अपने अगले दाँतों में ले लिया और समीना को अपनी पूरी कूवत के साथ अपनी तरफ़ खींचने लगा और साथ ही पीछे से ज़ोर-ज़ोर के धक्के मारता हुआ अपना लंड जड़ तक समीना की चूत में दाखिल करने की कोशिश करने लगा। समीना का लज़्ज़त के मारे बुरा हाल हो रहा था मगर उसके साथ-साथ उसे अपनी चूत में दर्द भी काफ़ी हो रहा था। मगर फ़िर भी अब वो बेबसी के साथ टॉमी की गिरफ़्त में झुकी हुई थी और उससे चुदवा रही थी। उसकी चूत ने इस दर्मियान एक बार पानी छोड़ दिया था।.

कुछ देर में टॉमी की गिरफ़्त ढीली हुई। उसने समीना के गले में डला हुआ पट्टा अपने मुँह से निकाला तो समीना अचानक से उसके नीचे से निकल गयी और अपने घुटनों और हाथों पर ही भागती हुई सोफ़े की तरफ़ बढ़ी। टॉमी भला अपनी कुत्तिया को कैसे छोड़ सकता था। वो फ़ौरन ही उसके पीछे-पीछे लपका। हंसती हुई समीना सोफ़े पर पहुँची और वहाँ सीधी हो कर लेट गयी। उसने अपनी टाँगों को खोला और अपनी चूत एक बार फ़िर टॉमी के आगे कर दी। टॉमी ने आते साथ ही समीना की चूत को चाटना शुरू कर दिया और अपनी लंबी ज़ुबान के साथ ऊपर से नीचे तक उसकी चूत को चाटने लगा। एक बार फ़िर टॉमी ने ऊपर को छलांग लगायी और अपने अगले पैरों को समीना कि कमर के दोनों तरफ़ सोफ़े के ऊपर रखा और समीना के तक़रीबन ऊपर ही चढ़ आया। उसका लंड नीचे से समीना की चूत के करीब था और उसकी चूत के इर्दगिर्द टकरा रहा था। एक बार फ़िर समीना ने हाथ बढ़ा कर टॉमी के चिकने लाल-लाल लंड को अपने हाथ में पकड़ा और उसे अपनी चूत के ऊपर रगड़ने लगी। टॉमी के मोटे लंड को अपने हाथ की गिरफ़्त में रख कर उसे अपनी चूत पर रगड़ना बहोत ही मुश्किल काम था समीना के लिये क्योंकि टॉमी तेज़ी के साथ धक्के मार रहा था... अपना लंड अपनी मालकिन की चूत के अंदर दाखिल करने के लिये। और फ़िर समीना ने टॉमी के लंड की नोक को अपनी चूत के सुराख पर टिकाया और अगले ही लम्हे टॉमी के एक ही धक्के के साथ ही उसका लंड समीना की चूत के आखिरी सिरे तक उतर गया। समीना के मुँह से एक दर्द ओर मस्ती भरी तेज़ चींख निकली मगर उसके बाद तो दे दनादन टॉमी ने समीना की चूत को चोदना शुरू कर दिया। उसका लंड तेज़ी के साथ समीना की चूत में अंदर-बाहर हो रहा था और समीना भी अब अपनी आँखें बंद करके उसके लंड के तेज़ी के साथ अपनी चूत में अंदर-बाहर होने की तकलीफ को बर्दाश्त कर रही थी और साथ में ही मज़े भी ले रही थी। चंद बार ही टॉमी का लंबा लंड समीना की चूत के अंदर आखिरी हद तक टकराया तो समीना की चूत ने पानी छोड़ दिया। उसके जिस्म ने तेज़-तेज़ झटके लिये और चूत की दीवारों ने टॉमी के लंड को भींचा और साथ ही अपना पानी निकल गया उसका!

समीना का जिस्म निढाल सा हो गया था... वो ढीली पड़ चुकी थी मगर टॉमी तो अभी भी मस्ती में था। एक कुत्ता हो कर... एक खूबसूरत औरत की चूत मिलने का नशा था उस पर और वो बस उसे चोदे जा रहा था। उसके लंबे मोटे लाल लंड की नोक समीना की चूत के अंदर उसकी बच्चा दानी से टकरा रही थी और वो और भी ज़ोर लगा रहा था जैसे कि वो अपने लंड को समीना की बच्चा दानी के अंदर दाखिल करना चाहता हो। टॉमी अपने दोनों पैर समीना की कमर के गिर्द रख के अगले हिस्से से सोफ़े पे चढ़ा हुआ था और पूरे का पूरा समीना के नाज़ुक जिस्म के ऊपर था। समीना ने टॉमी के लंड को उसके पिछले हिस्से की गोलाई के पीछे से पकड़ रखा था ताकि आज टॉमी अपने लंड का ये खतरनाक हिस्सा उसकी चूत के अंदर दाखिल ना कर सके और आज भी वो कल की तरह उसके लंड पर ही फंसी ना रह जये। मगर... टॉमी के इरादे तो खतरनाक ही थे। आखिर था तो वो एक जानवर ही ना और वो भी एक वहशी जानवर जो कि हवस और सैक्स की आग में और भी वहशी हो जाता है और टॉमी वहशी ही तो होता जा रहा था। उसके धक्कों... उसके घस्सों की रफ़्तार तेज़ से तेज़ होती जा रही थी। उसकी भी एक ही ख्वाहिश थी ना कि अपनी चुदाई की तकमील कर सके और वो तकमील तो तब नहीं हो सकती थी जब तक कि उसका लंड पूरे का पूरा यनि उसकी गोलाई उसकी कुत्तिया... उसकी मालकिन... उसकी समीना की चूत के अंदर जाकर ना फंस जाये क्योंकि उसके बिना तो कुत्तों को शायद मज़ा ही नहीं आता था ना! और यही हालत टॉमी की थी! उसकी पूरी कोशिश थी के अपना लंड समीना की चूत में पूरे का पूरा डाल दे और अपने ताक़तवर धक्कों की मदद से आखिरकार वो अपनी इस कोशिश में कामयाब हो ही गया। शराब के नशे और चुदाई की मस्ती में समीना भी तो उसकी ताक़त का मुक़ाबला नहीं कर सकती थी ना ज़्यादा देर तक! आखिर उसका हाथ भी टॉमी के लंड पर से हट गया और अगले ही लम्हे टॉमी का पूरा लंड अपनी पिछली गोलाई समेत उसकी चूत के अंदर उतर गया और उसकी टाइट चूत ने टॉमी के लंड को जकड़ लिया और टॉमी के लंड का अगला नोकीला हिस्सा समीना की बच्चा दानी का सुराख पार करता हुआ बच्चा दानी के अंदर घुस ही गया। एक तेज़ चींख के साथ समीना ने अपने बाज़ू टॉमी के नीचे से उसके जिस्म के गिर्द लपेट लिये और उसे अपने जिस्म के साथ दबा लिया।

जैसे ही टॉमी के लंड का अगला हिस्सा समीना की चूत के अंदर दाखिल हुआ तो एक बार फ़िर समीना की चूत ने पानी छोड़ दिया और उसे खुद भी टॉमी के लंड से हल्का-हल्का पानी उसकी चूत के अंदर गिरता हुआ महसूस होने लगा। समीना की आँखें बंद थीं और उसकी चूत पानी छोड़ रही थी और वो एक बार फ़िर अपनी मंज़िल को पहुँच चुकी थी। कुछ देर के बाद समीना को थोड़ा होश आया तो उसे एहसास हुआ कि वो टॉमी के नीचे है... उसके जिस्म के साथ लिपटी हुई है... टॉमी का लंड उसकी चूत के अंदर है और उसकी तमामतर कोशिश के बावजूद भी टॉमी के लंड की मोटी गोलाई उसकी चूत के अंदर फंस चुकी है। इस सारी सूरत-ए-हाल को समझने के बाद समीना सिर्फ़ मुस्कुरा कर रह गयी कि अब उसे कुछ देर इंतज़ार करना पड़ेगा...टॉमी के फ़ारिग़ होने का! अपनी चूत में कुत्ते के लंड के फंसे होने का भी आखिर अलग ही मज़ा है... अलग ही... बेहद मस्ती भरा एहसास है!

!! समाप्त !!!


मुख्य पृष्ठ (हिंदी की कामुक कहानियों का संग्रह)

Keywords: Married Woman, Bestiality (F-dog), Masturbation (F), Drunk-sex, Pakistan, Urdu, High Heels Fetish, विवाहित औरत, पशुगमन (स्त्री-कुत्ता), हस्तमैथुन (स्त्री), शराब, नशा, पाकिस्तान, उर्दू, ऊँची ऐड़ी सैंडल / हाई हील सैंडल फेटिश

Keyword: Seduction, Adultery, Big-cock, Masturbation (F), Hindi Story, Hindi Font Sexy Story, High Heels, Highheels, Sandal, Salwar Kameez, Saree, India, Indian, Chut, Choot, Chutmarani, Gaand, Hindi Chudai Kahani, Kahaniya, Maa-Beti Ki Chudai, Muslim Sluts, व्याभिचार (गैर-मर्द), विशाल लण्ड, हस्तमैथुन (स्त्री), कुत्ते का लण्ड, कुत्ते से चुदाई, शराब, नशे में चुदाई, ऊँची हील के सैंडल, ऊँची ऐड़ी, सेंडल, सैंडिल, सेंडिल, साड़ी, सलवार कमीज़, हिंदी, भारत, इंडिया, हिंदी कहानियाँ, हिन्दी, चूतमरानी, मुसलमान Tarakki Ka Safar, Tarakki ka Safar
Seduction, Adultery, Big-cock, Masturbation (F), Hindi Story, Hindi Font Sexy Story, High Heels, Highheels, Sandal, Salwar Kameez, Saree, India, Indian, Chut, Choot, Chutmarani, Gaand, Hindi Chudai Kahani, Kahaniya, Maa-Beti Ki Chudai, Muslim Sluts, व्याभिचार (गैर-मर्द), विशाल लण्ड, हस्तमैथुन (स्त्री), कुत्ते का लण्ड, कुत्ते से चुदाई, शराब, नशे में चुदाई, ऊँची हील के सैंडल, ऊँची ऐड़ी, सेंडल, सैंडिल, सेंडिल, साड़ी, सलवार कमीज़, हिंदी, भारत, इंडिया, हिंदी कहानियाँ, हिन्दी, चूतमरानी, मुसलमान Tarakki Ka Safar, Tarakki ka Safar

Seduction, Adultery, Big-cock, Masturbation (F), Hindi Story, Hindi Font Sexy Story, High Heels, Highheels, Sandal, Salwar Kameez, Saree, India, Indian, Chut, Choot, Chutmarani, Gaand, Hindi Chudai Kahani, Kahaniya, Maa-Beti Ki Chudai, Muslim Sluts, व्याभिचार (गैर-मर्द), विशाल लण्ड, हस्तमैथुन (स्त्री), कुत्ते का लण्ड, कुत्ते से चुदाई, शराब, नशे में चुदाई, ऊँची हील के सैंडल, ऊँची ऐड़ी, सेंडल, सैंडिल, सेंडिल, साड़ी, सलवार कमीज़, हिंदी, भारत, इंडिया, हिंदी कहानियाँ, हिन्दी, चूतमरानी, मुसलमान Tarakki Ka Safar, Tarakki ka Safar

Seduction, Adultery, Big-cock, Masturbation (F), Hindi Story, Hindi Font Sexy Story, High Heels, Highheels, Sandal, Salwar Kameez, Saree, India, Indian, Chut, Choot, Chutmarani, Gaand, Hindi Chudai Kahani, Kahaniya, Maa-Beti Ki Chudai, Muslim Sluts, व्याभिचार (गैर-मर्द), विशाल लण्ड, हस्तमैथुन (स्त्री), कुत्ते का लण्ड, कुत्ते से चुदाई, शराब, नशे में चुदाई, ऊँची हील के सैंडल, ऊँची ऐड़ी, सेंडल, सैंडिल, सेंडिल, साड़ी, सलवार कमीज़, हिंदी, भारत, इंडिया, हिंदी कहानियाँ, हिन्दी, चूतमरानी, मुसलमान Tarakki Ka Safar, Tarakki ka Safar


Online porn video at mobile phone


Mgg stranger pussy storieshttp://googleweblight.com/?lite_url=http://awe-kyle.ru/~LS/stories/chubbylover6808.html&ei=iAjMaHgR&lc=de-DE&s=1&m=816&host=www.google.de&f=1&gl=de&q=ferkelchen+lina+und+muttersau+sex+story+asstr&ts=1499885611&sig=ALNZjWnFi-xjDDMZZa-RLb9GHxCmra88Ugasstr searchasstr taboodolfan blind pussy picvirgin bonobo school xxxमेरी कमसिन चूत बेटे ने मारीsaap jaisa lund dekh dar shrab pee kar chudaiKleine enge fötzchen Löcher geschichten perverscache:l73bijuMUGgJ:awe-kyle.ru/nifty/bestiality/ choot mein lund DLNA f******* Hindi videoKleine Löcher enge fötzchen geschichten perversferkelchen lina und muttersau sex story asstrferkelchen lina und muttersau sex story asstrsohn in mama eindringen storyसेक्सी माँ बेटा क्सक्सक्स पिक्टोरिअल क्सक्सक्सWife turned stripper tattoo cigarette mcstorieskhofnak lesbo ki ghode chudai ki kahaniferkelchen lina und muttersau sex story asstrflogging schoolgirls sex story asstrcache:XypYOJqvnYAJ:awe-kyle.ru/~LS/stories/baracuda1967.html Sein steifes Glied glitt leicht in meine zarte Spaltesex anus pressing solid the fingeronly first spankingnackt ausziehen vor den tantenmuumy ki bra ki streep aur panty lakire storiecalofthwlf sex storiesfiction porn stories by dale 10.porn.comfiction porn stories by dale 10.porn.comLittle sister nasty babysitter cumdump storiesBeta jaldi karo koi dekh legasabrina jaisi gaanddEnge kleine fotzenLöcher geschichtencache:HO2pVYM_RnQJ:awe-kyle.ru/~rache/alt_index.html erotic fiction stories by dale 10.porn.comstories by pam bennettcumming hard daughters cunnyKleine Löcher enge fötzchen geschichten perversasstr.org boy balls cut neutered castrate empty saccache:s4Pmq84gkKwJ:awe-kyle.ru/~LS/stories/silvertouch4644.html mb ped suckमाँ जी कहानी chudaMadam ki high Hill Sandal Aur Chudicache:MJ-LO6JjTREJ:awe-kyle.ru/~LS/stories/erzieher7633.html peters peril dale10cache:rRPSdc_9PdAJ:awe-kyle.ru/~Janus/jeremy11-2.html Sexy story mariya chudna chati th apne pati ke samane apne yar seferkelchen lina und muttersau sex story asstrerotica OR "soft porn" -gay -lesbian elegant tasteful nippledr wu tiffany top to bottomnifty robbie's campground showerblack circle penitatas storiesबॉस ने खूब जमकर चुदाई की लंबी चुदाईferkelchen lina und muttersau sex story asstrpull cock backward through legs³g0 0ldnknabenpimmelferkelchen lina und muttersau sex story asstrfiction porn stories by dale 10.porn.commarigold part 3 vulga asstrsis change dress in front of bro mewed for hot sexअमेरिका सिटीchudai[email protected]goat painfully fucked asstr storiesi let my mother fuck me to satisfy her needs incest storiescache:ecmyY2lw8ZEJ:awe-kyle.ru/~smilodon/index1.htm girls jim sinter xxxचोद चोद क बुरा हाल कियाcache:Yo7DoKhnPNQJ:awe-kyle.ru/~mcstories/PleasingMyMistress/PleasingMyMistress.html Little sister nasty babysitter cumdump storieshund leckt dicke frau muschiFötzchen eng jung geschichten streng perversकई औरत को एक साथ चोदामम्मी को आकर्षित किया बेटे ओर चुतferkelchen lina und muttersau sex story asstrgirlscouts nuckie storiesसेकसी लड़की की खतर नाक चुदाईpuericil on little brotherclosetcfnmLittle sister nasty babysitter cumdump storiesचड्डी उतार दो गीली हैPza sex storiesLeslie schmidt storiesnudity archive storyKleine jung erziehung geschichten pervers